Mission College Admission: पसंदीदा कॉलेज में दाखिला हमेशा चुनौतीपूर्ण रहा है. लेकिन अब जब कोरोना महामारी ने सबको घरों तक सीमित कर दिया है, तो यह प्रक्रिया और भी कठिन हो गई है. कोरोना महामारी ने न केवल दाखिले में बाधा डाली है, बल्कि देश भर के कई छात्रों की अध्ययन की योजनाओं में भी देरी की है. छात्र अब भी अपने भविष्य की स्थिति के बारे में अनिश्चित हैं और अपनी पसंद के पाठ्यक्रमों के आधार पर कॉलेजों में नामांकन के लिए संघर्ष कर रहे हैं. India.com ने छात्रों के एडमिशन में आने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए ‘मिशन कॉलेज एडमिशन’ पहल की शुरुआत की है. ‘Mission College Admissions’ सीरीज के इस वीडियो में जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड की ग्रुप एडिटर पूजा सेठी ने इन्हीं सब मुद्दों पर दिल्ली के इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (IIIT-D) के अकादमिक मामले के डीन प्रोफेसर पुष्पेंद्र सिंह से बात की. पुष्पेंद्र सिंह ने 2004 में मोबाइल कंप्यूटिंग के क्षेत्र में इनरिया-रेनेस, फ्रांस से PhD पूरी की. उन्होंने पहले पोर्ट्समाउथ विश्वविद्यालय, न्यूकैसल विश्वविद्यालय और इनरिया-रोक्क्वेनकोर्ट में काम भी किया था.Also Read - DU Admission 2021: अंडर-ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय विशेष कट-ऑफ सूची जारी करेगा

Also Read - Mission College Admission: एडमिशन की दिक्कतें कैसे हो दूर? ZEEL की ग्रुप एडिटर पूजा सेठी की प्रो. सिबारम खारा से खास बातचीत

Also Read - Mission College Admission: दाखिले में आने वाली दिक्कतें कैसे हो दूर? ZEEL की ग्रुप एडिटर पूजा सेठी की डॉ. राजीव सोबती से खास बातचीत