New Wage Bill: अगर सब कुछ सही रहा तो अगले वित्त वर्ष की पहली तारीख से आपके कामकाज के घंटों में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है. इसके साथ-साथ आपकी टेक-होम सैलरी भी कम हो सकती है, क्योंकि सरकार काम के घटों के साथ आपके भविष्य का भी खयाल रखने जा रही है. आपकी बेसिक सैलरी बढ़ जाएगी, जिससे पीएफ में कटौती ज्यादा होगी.Also Read - ‘भोंगा अजान’ का ट्रेलर हुआ लॉन्च, 3 मई को होगी फिल्म रिलीज़

जानिए – क्यों घटेगा वेतन और पीएफ में होगी बढ़ोतरी (Know why PF Increase and Salary Decrease)
नए नियम के मुताबिक, मूल वेतन कुल वेतन का 50 फीसदी या अधिक होना चाहिए. इससे ज्यादातर कर्मचारियों की सैलरी का स्ट्रक्चर (Salary structure) बदल जाएगा. Also Read - रूस की धमकी के बावजूद फिनलैंड और स्वीडन को NATO में शामिल करने की तैयारी

मूल वेतन बढ़ने से पीएफ बढ़ेगा, जिसका मतलब है कि टेक-होम (Take home salary) या हाथ में आने वाले वेतन में कटौती होगी. Also Read - जल्द लागू होगी वेज कोड योजना, नौकरी पेशा लोगों को मिलेगा 3 दिन का Weekly Off

रिटायरमेंट पर मिलने वाली राशि में होगी बढ़ोतरी
ग्रैच्युटी और पीएफ में योगदान बढ़ने से रिटायरमेंट के बाद मिलने वाली राशि में बढ़ोतरी होगी. पीएफ और ग्रैच्युटी बढ़ने से कंपनियों की लागत भी बढ़ जाएगी.

12 घंटे तक काम करने का प्रस्ताव
नए ड्राफ्ट कानून में अधिकतम 12 घंटे तक काम करने का प्रस्ताव पेश किया गया है. कर्मचारियों को हर पांच घंटे के बाद आधा घंटे का विश्राम देने के निर्देश भी ड्राफ्ट नियमों में शामिल हैं.