ईटानगर: अरुणाचल प्रदेश का एक गांव अब एशिया के धनी गांवों में शुमार हो गया है और ये सब हुआ है केंद्र सरकार के नए भूमि अधिग्रहण कानून के लागू होने के चलते. दरअसल, राज्‍य के 31 परिवारों वाले बूम्‍जा गांव के लोगों को भूमिअधिग्रहण के बाद मुआवजे के तौर पर 40,80,38,400.00 रुपए की धनरा‍शि मिली है. इसके बाद इस गांव का हर परिवार करोड़पति हो गया है.  Also Read - आर्मी ने चीन की हरकत पर नजर रखने LAC पर इजराइली ड्रोन Heron Mark-I UAV से बढ़ाई निगरानी

प्रतीकात्‍मक फोटो.

प्रतीकात्‍मक फोटो.

केंद्रीय रक्ष्‍ाा मंत्रालय ने इस इलाके में भूम‍ि अधिग्रहण के बाद  40 करोड़ 80 लाख रुपए की  मुआवजा राशि ग्रामीणों की जारी की है. खास बात ये है क‍ि एक परिवार को 6.73 करोड़ रुपए तक मिले हैं. जबकि वहीं एक अन्‍य परिवार को 2.44 करोड़ रुपए मिले हैं. Also Read - '100 कारणों से जाएगी एनडीए सरकार'; पूर्व वित्त मंत्री बोले- महंगाई सबसे बड़ी वजह होगी

केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ने 40 करोड़ 80 लाख रुपए से ज्‍यादा की यह रकम 200.056 एकड़ जमीन का अधिग्रहण करने के बाद जारी की है. बूम्‍जा गांव के 31 में से 29 प‍रिवारों में से हर एक को 1 करोड़ 9 लाख, 3,813 रुपए मिले हैं. इतनी बड़ी रकम मुआवजे के तौर पर मिलने के बाद लगभग गांव की हर फैमिली करोड़पत‍ि बन गई है और इसके साथ ही यह गांव एशिया के सबसे धनी गांवों की सूची में बूम्‍जा शामिल हो गया है.   Also Read - देश में कोयला संकट को सरकार ने बताया निराधार, मनीष सिसोदिया बोले- संकट से ‘‘दूर भागने’’ के लिए बहाने बना रही केंद्र सरकार

आर्मी ने तवांग गैरिसन की यूनिट स्‍थापित करने के लिए बूम्‍जा गांव में जमीन का अधिग्रहण किया है. राज्‍य के सीएम पेमा खांडू ने बीते सोमवार को जमीन के बदले बूम्‍जा गांव के प‍रिवारों को मुआवजा राशि वितरित की. उन्‍होंने कहा कि सेना के द्वारा अधिग्रहण की गई अन्‍य जमीनों का  मुअवाजा देने की प्रक्रिया जारी है और केंद्र सरकार इनमें भी ऐसा ही मुआवजा देने के लिए काम कर रही है. उन्‍होंने पीएम नरेन्‍द्र मोदी को भी विकास के लिए श्रेय दिया.