हौसला और हिम्मत हो तो उम्र कोई मायने नहीं रखती. यह देवरिया के अवरही गांव के भाई-बहन सरीम और कशिश की जोड़ी ने साबित कर दिया है. इन दोनों की जोड़ी ने ऑनलाइन शिक्षा देकर सोशल मीडिया पर तहलका मचा रखा है. लॉकडाउन में सही मायने में इस जोड़ी ने आपदा को अवसर में बदलने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी. Also Read - Ayodhya में ट्रस्‍ट ने राम मंदिर से लगी जमीन खरीदी, 107 एकड़ का परिसर बनाने का प्‍लान

सरीम और कशिश दे रहे क्लास
देवरिया के देसही विकास खंड स्थित अवरही गांव के रहने वाले निजी विद्यालय के शिक्षक मोहसिन रजा के कक्षा पांच में पढ़ने वाले बेटा सरीम और कक्षा आठ में पढ़ने वाली बेटी कशिश, दोंनों ही बचपन से बहुत ही मेधावी हैं. लॉकडाउन के दौरान विद्यालय बंद होने के कारण अपने पिता की सलाह पर दोंनों ने घर पर ही ऑनलाइन पढ़ाई शुरू की. Also Read - Petrol Diesel Prices: बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम तो वकील ने जताई अनोखी इच्छा, प्रशासन हैरान

मेधावी सरीम ने 12वीं तक के भौतिक विज्ञान को पूरा पढ़ डाला है. बहन कशिश ने 10 वीं की एनसीईआरटी पैटर्न की गणित की पूरी तैयार कर ली. Also Read - Tandav: Amazon को HC की फटकार- देवी-देवताओं का मजाक अभिव्यक्ति नहीं, जमानत याचिका खारिज

उनकी लगन देखकर उनके पिता मोहसिन रजा ने दोंनों बच्चों के लिए एसके वंडर किड्स नामक एक यूट्यूब चैनल बनाया है. जिसमें सरीम ने 12वीं के भौतिक विज्ञान और जेईई मेंस के सवालों के उत्तर अपलोड करने शुरू कर दिए. बहन कशिश गणित पढ़ाते हुए वीडियो डाल रही है.

बढ़ रहे सब्सक्राइबर्स
चार माह के अधिक समय में ढाई हजार से ऊपर उनके सब्सक्राइबर हो गये हैं. उनके वीडियो को आईआईटी प्रवेश की तैयारी करने वाली संस्था सुपर 30 के आनंद कुमार ने शेयर किया है. उनकी प्रतिभा को उन्होंने सराहा है. उन्होंने लिखा कि हमारे देश में प्रतिभाओं की कमीं नहीं है, मुझे गर्व है तुम पर.

मेधावी हैं बच्चे
सरीम के पिता मोहसिन रजा ने बताया कि ये दोंनों बच्चे बचपन से प्रतिभावान हैं. सरीम कक्षा 1 में ही अंग्रेजी के नैरेशन वगैरह सॉल्व करने लगा था. 6 साल की उम्र में शेक्सपीयर पढ़ता था. अभी कक्षा 5 की परीक्षा दी है. वर्तमान में जेईई मेंस के सवालों को हल करता है.

कशिश आठवीं क्लास में है, लेकिन दसवीं की गणित के सवाल हल करती है और वीडियो बनाती है. दोनों भाई-बहन आपस में एक दूसरे का वीडियो बनाते हैं और अपलोड करते हैं. कशिश का कहना है यह सब कठिन मेहनत से हासिल हुआ है.
(एजेंसी से इनपुट)