Corona Me Ramji Ka Sahara: बिहार में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच कई लोग खुद मदद के लिए आगे भी आ रहे हैं. बिहार के बक्सर के रहने वाले समाजसेवी रामजी सिंह इस समय कोरोना मरीजों के लिए हौसला बने हुए हैं.Also Read - बिहार में जातिगत जनगणना को लेकर बड़ा अपडेट, जानें क्या बोले सीएम नीतीश कुमार

जब शवों को श्मशान घाट ले जाने में जिला प्रशासन ने खुद को असमर्थ पाया, तब रामजी ने युवा युवा शक्ति संस्थान का एंबुलेंस भी शव वाहन बना दिया. जिससे शवों को श्मशान घाट तक पहुंचाने में कोई परेशानी नहीं हो. Also Read - सऊदी अरब में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले, भारत समेत इन देशों में यात्रा करने पर लगा प्रतिबंध

रामजी सिंह के लिए समाजसेवा कोई नई बात नहीं है. प्रारंभ से ही ये समाजसेवा से जुड़े हुए हैं. जब कोरोना की दूसरी लहर प्रारंभ हुई तब इन्होंने कोरोना मरीजों की सेवा में खुद को लगा दिया. Also Read - अब सऊदी अरब नहीं जा पाएंगे इन 15 देशों के टूरिस्ट, जानिए वजह

गांव से पहुंचने वालों को जब ठीक से कुछ पता नहीं होता तब इनकी टीम उन्हें अस्पताल पहुंचाती है और उन्हें सुविधा मुहैया कराती है.

बक्सर के रामबाग इलाके के रहने वाले रामजी सिंह बताते हैं कि एक सप्ताह पूर्व कोरोना संक्रमितों लोगों के शवों को श्मसान घाट तक ले जाने के लिए कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी. ऐसे मौके पर उन्होंने युवा युवा शक्ति संस्थान द्वारा लोगों की मदद से खरीदा गया एंबुलेंस को शव वाहन बनाकर शवों को श्मशान घाट तक पहुंचाने का बीड़ा उठा लिया.

सिंह बताते हैं कि अब तक 13 कोरोना संक्रमित शवों को वे श्मशान घाट पहुंचा चुके है, वह भी नि:शुल्क.
उन्होंने इसकी शुरूआत के संबंध में पूछे जाने पर कहा, कोविड केयर सेंटर में मरीजों के पास चार शव पड़े थे और उनके श्मशान पहुंचाने की कोई व्यवस्था जिला प्रशासन के पास नहीं थी. प्रशासन के लोगों ने उनसे बात की और फिर एंबुलेंस ही शव वाहन बन गया. वे कहते हैं कि यह एंबुलेंस अब सदर अस्पताल परिसर में ही खड़ी रहती है.

सिंह की टीम भर्ती कोरोना मरीजों को गर्म पानी और काढ़ा की व्यवस्था भी करती है. उन्होंने कहा कि भर्ती मरीजों के पास काढा और गर्म पानी पहुंचाने की शुरूआत भी की गई थी, लेकिन सेंटर में स्थान की कमी के कारण फिर बंद कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि चिकित्सकों से बात चल रही है, अगर जगह उपलब्ध करा दिया गया तो फिर से यह सेवा प्रारंभ कर दी जाएगी.

उन्होंने कहा, ‘हम आप जैसे लोग ऑक्सीजन नहीं बना सकते, इंजेक्शन नही बना सकते हैं लेकिन हौसला तो जरूर बना सकते हैं और हौसले से ही जीत है.’
(एजेंसी से इनपुट)