नई दिल्ली: सिलाई मशीन पर झटपट चलते हाथ. इधर-उधर ध्यान दिए बिना अपने काम जुटी एक महिला. ये कोई आम महिला नहीं बल्कि देश की फर्स्ट लेडी सविता कोविंद हैं, जो कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ी जा रही है जंग का हिस्सा बन गई हैं. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) की पत्नी सविता कोविंद (Savita Kovind) इन दिनों मास्क सिलने में जुटी हुई हैं. वह ये मास्क ज़रूरतमंदों को उपलब्ध कराएंगी. इस काम के लिए सोशल मीडिया पर सविता कोविंद की खूब तारीफ़ हो रही है. Also Read - मध्य प्रदेश में अत्यावश्यक सेवा छोड़कर अन्य दफ्तरों में मात्र 10 फीसदी कर्मचारी आएंगे, दिशा-निर्देश जारी

सविता कोविंद (Savita Kovind) ने कोरोना से चल रही लड़ाई के लिए आगे आकर बड़ा उदहारण पेश किया है. अपना योगदान देते हुए ऐसे समय में वह मास्क सिल रही हैं, जिस समय इसकी सबसे ज्यादा ज़रूरत है. इधर उधर से मंगवाने की बजाय उन्होंने ये काम खुद करना ज़रूरी समझा और सिलाई मशीन से मास्क सिलने लगीं. वह ये काम राष्ट्रपति एस्टेट के शक्ति हाट में कर रही हैं. Also Read - कोरोना के संकट से बचने के लिए क्या करें और क्या न करें... पीएम मोदी ने बताया

बताते हैं कि सविता कोविंद ये मास्क शेल्टर होम में गरीबों को बांटने के लिए बना रही हैं. सविता कोविंद की मास्क बनाए जाने के दौरान की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. लोग सविता कोविंद की तारीफ कर रहे हैं. ट्वीटर पर लोगों ने सविता कोविंद की इस कोशिश को एक बेहतरीन उदहारण बताया है. Also Read - PM Narendra Modi's Address To Nation Live: पीएम मोदी का बड़ा बयान- देश को लॉकडाउन से बचाना है

बता दें कि कोरोना संकट (Corona Virus) के बाद देश में मास्क और सेनिटाइज़र की कमी हो गई है. उत्पादन होने के बाद भी मांग इतना भारी है कि आपूर्ति नहीं हो पा रही है. देश में सार्वजनिक जगहों पर निकलने के लिए मास्क पहनना ज़रूरी कर दिया गया है. ऐसे में हर कोई मास्क चाहता है, जो उपलब्ध नहीं हैं.