जींस का पैंट पहना हर किसी को पसंद है। आज के युवा  हो बूढ़े  सभी को जींस एक ऐसा कपड़ा लगता है जो पहनने में तो मजेदार होता है उसके साथ वह काफी टिकाऊ भी होता है।लेकिन जींस के रंग की बात करें तो आज अभी अधिकांश लोग नीले रंग की जींस को सबसे ज्यादा पसंद करते हैं। लेकिन आप जानतें है की जींस के इस रंग की खोज किसने और कब की थी। अगर नही तो चलिए हम आपको आज बतातें हैं। Also Read - पब्लिक प्लेस पर शराब पीने के कारण पेरू के पूर्व राष्ट्रपति गिरफ्तार

Also Read - भारत में प्रथम टेस्ट ट्यूब बेबी का आज ही के दिन (August 6, 1986) हुआ था जन्म

दुनिया में पहली बार नीले रंग की जींस के खोज का खुलासा हुआ है सबसे पहले नीले रंग का प्रयोग पेरू में किया गया था। दरअसल शोधकर्ताओं ने पेरू के उत्तरी तट पर हुआका प्रीटा में खुदाई के दौरान 6,200 साल पुराना कपड़ा पाया गया, जिस पर नीले रंग को डाई के रूप में इस्तेमाल किया गया था। इसे सबसे पहली जींस माना गया है। जॉर्ज वाशिंगटन विश्वविद्यालय के सहायक शोध प्रोफेसर और प्रमुख लेखक जेफरी स्पिलतसर ने कहा कि निष्कर्ष से पता चलता है कि जटिल वस्त्र तकनीक का विकास प्राचीन रेडियन लोगों ने किया था। यह भी पढ़ें : टाइट जींस पहनने वालों में बढ़ जाते हैं नामर्दी के लक्षण Also Read - 44 Dead after busTumbles from Peru mountain road | पेरू: भीषण सड़क दुर्घटना, 44 लोगों की मौत

रिसर्च करने वाले स्पिलतसर ने कहा, “हुआका प्रीटा कपड़ों में इस्तेमाल होने वाला कपास गॉसपियम बारबाडेंसी, आज उगाई वाले मिस्र के कपास की जाति का ही है। स्पिलतसर ने कहा, “हमारे पास अच्छी नीली जींस नहीं होती यदि दक्षिण अमेरिकी नहीं होते।”इस खोज की रिपोर्ट पत्रिका ‘जर्नल साइंस एडवांसेज’ में प्रकाशित हुई है। फिलहाल इस रिसर्च पर अभी विद्वानों की टीम लगी हुई है।