प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में जिस ‘राकेश’ नामक पीएसी के कुत्ते का जिक्र किया गया था, उसकी लीवर और किडनी संक्रमण के कारण मौत हो गई है. इस कुत्ते की मंगलवार को मौत हुई और उसे प्रांतीय सशस्त्र कांस्टेबुलरी (पीएसी) के कर्मियों की ओर से पूरे सम्मान के साथ दफनाया गया. प्रधानमंत्री ने अपने कार्यक्रम में कुत्ते की देखभाल के लिए पीएसी की प्रशंसा की थी. Also Read - Climate Adaptation Summit 2021: पीएम मोदी का ऐलान, भारत न केवल पर्यावरण क्षति को रोकेगा बल्कि इसे ठीक भी करेगा

कुत्ते का नाम उसके मालिक राकेश के नाम पर रखा गया था.राकेश एक चाय की दुकान का मालिक था और जिसने कुछ समय के लिए कुत्ते की देखभाल की थी. हेड कांस्टेबल अजीज-उर-रहमान खान ने कहा, ‘एक चाय स्टाल के मालिक राकेश, आवारा कुत्ते की देखभाल करते थे. हालांकि वह कोविड-19 के कारण लागू किए गए शुरुआती लॉकडाउन के बाद अपने गृहनगर वापस चले गए और कुत्ता यहीं पर रह गया.’

इसके बाद सभी प्रशिक्षु जवानों, कांस्टेबलों और हेड कांस्टेबलों ने आवारा कुत्ते को खूब प्यार दिया और उसकी देखभाल की. जवानों ने इस कुत्ते का नाम उसके मालिक ‘राकेश’ के नाम पर ही रख दिया. बीमार पड़ने के बाद ‘राकेश’ की पांच वर्ष की उम्र में मौत हो गई.

(इनपुट: IANS)