Funeral: कोरोना वायरस से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण आवाजाही पर प्रतिबंधों के मद्देनजर प्रार्थना समारोहों के लिए पुजारी और अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने वाले पुणे के एक स्टार्ट-अप ने अब अपने ऑनलाइन मंच के माध्यम से अंतिम संस्कार संबंधी सेवाएं मुहैया कराने का फैसला किया है.Also Read - J&K: श्रीनगर में शहीद सब-इंस्‍पेक्‍टर का शव कुपवाड़ा में पहुंचा, लोगों का उमड़ा आक्रोश

‘मोक्ष सेवा’ के जरिए कम्पनी का लक्ष्य परिवार को मृतक का मृत्यु प्रमाण पत्र प्राप्त करने, अरथी का इंतजाम करने, पार्थिव शरीर को श्मशान ले जाने, श्मशान पास प्राप्त करने, पुजारी और अंतिम संस्कार के लिए आवश्यक सामग्री मुहैया कराने में मदद करना है. Also Read - मां अपने लाल के लिए बिलख रही है... बहनें तड़प रही हैं... सिद्धार्थ तुम कहां हो?

कम्पनी के एक साझेदार प्रणव छावरे ने बताया कि कम्पनी ‘गुरुजी ऑन डिमांड’ सेवा के जरिए अंतिम संस्कार के बाद किए जाने वाले अनुष्ठानों में शोक संतप्त परिवारों की सहायता करने की योजना भी बना रही है. Also Read - इस दुनिया से विदा हुए दिलीप कुमार, फफक पड़ीं सायरा बानो, रूला देंगी तस्वीरें

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण रिश्तेदार और दोस्त अंतिम संस्कार में नहीं आ सकते. ऐसे में लोगों के लिए सभी काम अकेले करना मुश्किल हो जाता है. इस सेवा को शुरू करने का लक्ष्य परिवार को एक ही मंच पर सभी सेवाएं उपलब्ध कराना है.

छावरे ने कहा कि समय की मांग को देखते हुए सामाजिक दूरी बनाए रखना जरूरी है. इसलिए पंडित पूजा-अर्चना वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए ही करें तो ठीक है. लेकिन अगर पंडित को मौके पर बुलाए जाने की मांग भी होगी तो उसे भी सभी एहतियात बरतते हुए पूरा किया जाएगा.

कोरोना वायरस के कारण लगी पाबंदियों के चलते अंतिम संस्कार में अधिक लोगों के शामिल होने की अनुमति नहीं है.

छावरे कहते हैं कि एकल परिवारों में हालात और खराब हैं, ऐसे परिवारों में किसी की मौत होने पर अंतिम संस्कार के लिए जरूरी सामान जुटाना मुश्किल हो जाता है.

वह कहते हैं, ‘‘ऐसा देखा जा रहा है कि अगर परिवार में किसी की मौत हो गयी है तो घर के लोगों को अंतिम संस्कार की तैयारियों के लिए इधर उधर भागना पड़ता है. इस योजना का मकसद लोगों को एक ही जगह पर सारा सामान मुहैया कराना और संकट के समय में उनकी परेशानियों को कम करना है”.

इस समय इस कंपनी के साथ पुणे और पिंपरीचिंचवड इलाके के 650 पुजारियों को शामिल किया गया है. लोग कंपनी के मोबाइल ऐप या उसकी वेबसाइट पर जाकर उसकी सेवाओं के लिए बुकिंग करा सकते हैं.
(एजेंसी से इनपुट)