गुजरात के अहमदाबाद में एक चौकाने वाली घटना सामने आई है जहां 12 छात्रों ने कुछ ऐसा किया जो शायद ही अपने कही सुना होगा। दरअसल, यहां 12 मेसे सभी छात्र एक परीक्षार्थी होने के साथ ही परीक्षक भी थे। चौक गए न आप इस खबर को पड़कर क्यों कभी भी कोई परीक्षार्थी कभी परीक्षक नहीं बन सकता मगर यह अजीब खबर अहमदाबाद से मिली है जहां एक छात्र ने अपने अर्थशास्त्र का पेपर खुद लिखा और फिर उसे कथित तौर पर लाल स्याही से जांच भी खुद की।Also Read - Indian Railways: इन ट्रेनों में डी-रिजर्व द्वितीय श्रेणी के कोचों को 'अनारक्षित' कोच के तौर पर चलाएगी रेलवे, यहां देखें पूरी सूची

Also Read - Sword Raas: इन महिलाओं ने की ऐसी तलवारबाजी कि रविंद्र जड़ेजा को भूल जाएंगे आप

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक शायद यह छात्र पकड़ा नहीं जाता मगर उसकी इस होसियारी ने उसे पकड़वा दिया। बतादें की हर्षद सरवैया नाम के छात्र ने खुद का पेपर चेक किया और उसके बाद उसने खुद को अर्थशास्त्र में 100/100 अंक दे दिए। यह उसने अपना पेपर लिखने के बाद किया पर्यवेक्षक को अपना पेपर देने से पहले। यह भी पढ़ें: IAS की परीक्षा में फेल युवक बना साइको, अपने माता-पिता समेत 22 लोगों को तलवार से काटा Also Read - पोर्ट से 1 बिलियन डॉलर की कोकीन जब्‍ती की हेडलाइन नहीं दिखी, लेकिन 1.30 लाख की चरस-गांजा नेशनल न्‍यूज बन गई: जावेद अख्तर

इस मामले के सामने आने के बाद गुजरात सेकेंडरी और हायर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड (GSHSEB) ने हर्षद सरवैया नाम के इस छात्र के नाम पर केस फाइल किया है। वहीं आपको बतादें की हर्षद नाम के इस छात्र ने अर्थशास्त्र छोड़कर अपने बाकि पेपरों में कितने अंक पाएं हैं। संस्कृत – 4 , गुजराती – 13, सोशियोलॉजी – 20, साइकोलॉजी – 5, जियोग्राफी – 35 ऐसे कम अंक पाएं हैं।