नई दिल्लीः दिल्ली से सटे गुरुग्राम (Gurugram) के एक अस्पताल में दुनिया का अनोखा लिवर ट्रांसप्लांट (Liver Transplant) किया गया, जिसमें किसी इंसान नहीं बल्कि गाय की नसों की मदद ली गई है. मिली जानकारी के मुताबिक सऊदी अरब (Saudi Arab) की रहने वाली 1 साल बच्ची के लिवर ट्रांसप्लांट में गाय की नसों का इस्तेमाल किया गया है. वहीं 14 घंटे तक चली इस सर्जरी के बाद बच्ची पूरी तरह से स्वस्थ है, जिसके बाद बच्ची को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. Also Read - बीच बाजार युवक की हत्या से दहला गुरुग्राम, अज्ञात हमलावरों ने कार के अंदर मारीं ताबड़तोड़ गोलियां

दरअसल, सऊदी अरब (Saudi Arab) के रहने वाले दंपत्ति की 1 साल की बच्ची हूर को जन्म से ही लिवर की बीमारी थी, जिसके चलते हूर जन्म के बाद से ही काफी कमजोर और बीमार रहती थी. ऐसे में हूर के माता-पिता ने पहले सऊदी के डॉक्टर्स से सलाह ली, जिस पर डॉक्टर्स ने उन्हें भारत में हूर का इलाज कराने की सलाह दी. डॉक्टर्स की सलाह मानकर हूर के माता-पिता उसे इलाज के लिए भारत ले आए. ऐसे में यहां भी डॉक्टर्स के सामने यही चुनौती थी कि आखिर इतनी छोटी बच्ची का लिवर ट्रांसप्लांट कैसे किया जाए. Also Read - Residential real estate India: साल 2020 में घरों की बिक्री में आई 37 फीसदी की गिरावट, दिल्ली-एनसीआर में 50 फीसदी घटी: रिपोर्ट

अनूठी ‘अदृश्य स्याही’ जाली नोटों की पहचान करने में कर सकती है मदद, ये हैं विशेषताएं Also Read - गुरुग्राम में सख्त हुए नियम, इन लोगों का कोरोना टेस्ट हुआ अनिवार्य, उल्लंघन करने पर होगी कार्रवाई

डॉक्टर्स के मुताबिक, काफी सोच-विचार के बाद बच्ची के लिवर ट्रांसप्लांट के लिए गाय की नसों की मदद ली गई. वहीं खास बात यह भी है कि, यह दुनिया का पहला ऐसा मामला है, जब लिवर ट्रांसप्लांट में गाय की नसों की मदद ली गई हो. आपको बता दें कि, गाय की नसों का इस्तेमाल बच्ची के नए लिवर तक खून का संचार करने के लिए किया गया है. वहीं बात की जाए गाय की नसों की तो इन नसों को विदेश से मंगाया गया था, जिनके इस्तेमाल से बच्ची के नए लिवर तक खून पहुंचाया गया है.