Income Tax Notice: उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले (Mathura News) में एक रिक्शाचालक के साथ जो हुआ उससे वह मुश्किल में है और उसकी रातों की नींद उड़ गई है. आयकर विभाग (Income Tax) ने उसे तीन करोड़ रुपए के बकाया आयकर का नोटिस (Income Tax Notice) थमा दिया है. जैसे ही ये नोटिस मिला, उसके बाद रिक्शाचालक पुलिस के पास पहुंचा. नोटिस में बकाया राशि देख पुलिस के भी होश उड़ गए. आयकर विभाग (Income Tax Department) का कहना है कि रिक्शाचालक ने 2018-19 में 43 करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार किया.Also Read - सपा विधायक ने पुलिस अफसर के सिर पर दे मारा अपना सिर, झड़प, 150 के खिलाफ एफआईआर

मामला मथुरा के यहां बाकलपुर क्षेत्र की अमर कॉलोनी का है. यहां के रहने वाले प्रताप सिंह ने राजमार्ग थाने में शिकायत दर्ज करायी कि उसे आयकर विभाग से नोटिस मिला. हालांकि अभी रिक्शा चालक की शिकायत दर्ज नहीं की गई है. इस बीच सिंह ने सोशल मीडिया (Social Media) पर एक वीडियो डालकर अपनी यह कहानी बतायी है. उसने कहा कि उसने बाकलपुर में तेज प्रताप उपाध्याय के जन सुविधा केंद्र में पैन कार्ड (PAN Card) के लिए आवेदन दिया था क्योंकि उसके बैंक ने उससे पैनकार्ड जमा करने को कहा था. Also Read - UP Police Exam Answer Key: पुलिस बोर्ड जल्द ही जारी करेगी SI परीक्षा की आंसर की, ऐसे करें चेक

रिक्शाचालक प्रताप सिंह के अनुसार उसे बाकलपुर के संजय सिंह के मोबाइल नंबर से रंगीन पैनकार्ड की प्रति मिली. चूंकि वह पढ़ा-लिखा नहीं है इसलिए उसने मूल पैन और उसकी रंगीन प्रति में भेद नहीं कर पाया. उसे अपना पैनकार्ड पाने के लिए तीन महीने तक जगह जगह चक्कर काटना पड़ा. उसे 19 अक्टूबर को आयकर अधिकारियों से फोन आया और उसे नोटिस दिया गया कि उसे 3,47,54,896 रूपये का भुगतान करना है. Also Read - UP Police ASI SI Exam 2021: एसआई, एएसआई भर्ती परीक्षा कल से हो शुरू, परीक्षा केंद्र पर इन नियमों का पालन करना अनिवार्य

सिंह के अनुसार अधिकारियों ने उसे बताया कि किसी ने उसकी जगह लेकर उनके नाम पर जीएसटी नंबर प्राप्त किया और उसने 2018-19 में 43,44,36,201 रुपए का कारोबार किया. सिंह के अनुसार आयकर अधिकारियों ने उसे प्राथमिकी दर्ज कराने की सलाह दी है. थाना प्रभारी अनुज कुमार ने कहा कि सिंह की शिकायत के आधार पर कोई मामला तो दर्ज नहीं किया गया है लेकिन पुलिस इस विषय पर जरूर गौर करेगी.