Government Office Dress Code: मध्य प्रदेश के ग्वालियर संभाग में सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को शालीन और गरिमामय परिधान पहनकर कार्यालय आने की हिदायत दी गई है. साथ ही ‘फेंटेड जींस’ और ‘टीशर्ट’ पहनकर आने पर रोक लगा दी गई है. Also Read - कोरोना महामारी में अभिभावकों को खोने वाले बच्‍चों को हर माह 5 हजार रुपए की पेंशन म‍िलेगी, एमपी के CM की घोषणा

संभाग के आयुक्त एम बी ओझा ने एक आदेश जारी कर संभाग के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों से कहा है कि सभी शासकीय सेवकों गरिमापूर्ण, शालीन एवं औपचारिक परिधान पहनकर शासकीय कार्यालय में दायित्व निर्वहन करें, जो इस आदेश की अवहेलना करते है उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाए. Also Read - MP: कोरोना की जंग में लापरवाही, 2 डॉक्‍टरों समेत 12 कर्मचारियों को नौकरी से हटाया गया

उन्होंने एक अधिकारी द्वारा फेंटेड जींस और टीशर्ट पहनने का जिक्र करते हुए कहा है कि उनके द्वारा अशोकनगर जिले के भ्रमण के दौरान अपर कलेक्टर जैसे वरिष्ठ अधिकारी द्वारा बैठक में फैंटेड जीन्स पहनकर उपस्थित होना उक्त कृत्य शासकीय सेवक के पद की गरिमा के विपरीत हकर अमर्यादित आचरण की ओर इंगित करता है, जो उचित नहीं है. Also Read - MP: मेडिकल कॉलेज की नर्स, 2 लैब टेक्निशियन रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्‍लैक में बेचते हुए गिरफ्तार

संभाग आयुक्त ओझा ने संभाग के सभी संभागीय अधिकारियों एवं जिला कलेक्टरों को भेजे गए पत्र में निर्देश दिए हैं कि शासन के निर्देशानुसार सभी शासकीय कार्यालयों में शासकीय सेवक गरिमापूर्ण शालीन एवं औपचारिक परिधान पहनकर ही अपने दायित्वों का निर्वहन करें, यह सुनिश्चित किया जाए.

इन निर्देशों की जो अधिकारी व कर्मचारी अवहेलना करते है, उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही किए जाने हेतु सक्षम अधिकारी को प्रस्ताव भेजे जाएं.

उल्लेखनीय है कि 20 जुलाई 2020 को प्रदेश के मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में वीडियो कन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक में मंदसौर जिले के वन मण्डलाधिकारी द्वारा अशालीन परिधान (टीशर्ट) पहनकर शामिल होने पर मुख्यमंत्री सहित मुख्य सचिव द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुए सभी शासकीय अधिकारी एवं कर्मचारियों को शालीन, औपचारिक एवं गरिमापूर्ण परिधान पहनकर कार्यालय में आने के स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं.