नई दिल्ली: अगले तीन सालों में अपने शोध और विकास केंद्र में भारत में 2,500 इंजीनियरों की भर्ती करने की प्रतिबद्धता के तहत सैमसंग इस साल देश के शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेजों-आईआईटी संस्थानों, एनआईटी संस्थानों और आईआईआईटी संस्थानों से 1,000 इंजीनियरों की भर्ती करेगी. Also Read - नोटिस पीरियड सर्व किए बिना अब नौकरी छोड़ना पड़ेगा महंगा, 18 फीसदी GST जोड़कर की जाएगी रिकवरी, जानें-पूरा मामला

नए जमाने के डोमेन जैसे कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई), इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), मशीन लर्निग (एमएल), बायोमेट्रिक्स, नेचुरल लैंगुवेज प्रोसेसिंग (एनएलपी), संवर्धित वास्तविकता (एआर) और नेटवर्क्‍स (5जी समेत) के विकास के लिए सैमसंग इस साल आईआईटी संस्थानों से 300 छात्रों की भर्ती करेगी. Also Read - Amazon की Great Republic Day Sale इस दिन होगी शुरू, स्मार्टफोन्स पर मिल रही 40 फीसदी तक छूट

कंपनी अन्य संस्थानों के साथ आईआईटी-बम्बई से 35 छात्रों, आईआईटी-दिल्ली से 32 छात्रों, आईआईटी-मद्रास से 22 छात्रों, आईआईटी-गुवाहाटी से 45 छात्रों और आईआईटी-खड़कपुर से 29 छात्रों की भर्ती करेगी. सैमसंग इंडिया के तीन शोध व विकास केंद्र हैं, जो बेंगलुरु, नोएडा और दिल्ली में स्थित हैं. Also Read - Samsung Galaxy S21 Series: नए सीरीज के फोन्स की जानकारियां हुईं लीक, नहीं मिलेंगे ये सामान

सैमसंग आरएंडडी संस्थान भारत के प्रबंध निदेशक और सैमसंग के वैश्विक वरिष्ठ उपाध्यक्ष दीपेश शाह ने एक बयान में कहा, सैमसंग भारत में आरएंडडी को लेकर बेहद आशावान है और आरएंडडी पर जोर देने से सैमसंग को भारतीय बाजार में शीर्ष पर बने रहने में मदद मिलेगी. भारत में कंपनी के तीन आरएंडडी केंद्र कई अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों पर काम कर रहे हैं.

आईआईटी संस्थानों और एनआईटी संस्थानों के अलावा सैमसंग कई अन्य प्रमुख संस्थानों से भी प्रतिभाओं की भर्ती करेगी, जिसमें दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, बिट्स पिलानी, मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी, आईआईआईटी संस्थान समेत अन्य शामिल हैं.