महाकाल की नगरी उज्जैन में सिंहस्थ महाकुंभ का 12 साल बाद एक बार फिर से का आयोजन हो रहा है। सिहंस्थ महाकुंभ की शुरुवात 22 अप्रैल से हो रहा है। मध्यप्रदेश की धरती पर इस कुंभ के दौरान लाखो की संख्या में साधु-संतों का जमावड़ा लग चुका है। आखाड़ों का पेशवाई का नगरवासी स्वागत कर रहे हैं। इस महाकुंभ में कई ऐसी अनोखी चीजें देखने को मिल रही है जिसे देख के हैरानी होती है। इस बार के महाकुंभ में बैतुल बाजीपुरम से भगवान बालाजी की चलित प्रतिमा विमान से आएगी।Also Read - Unlock MP: मध्य प्रदेश में दिवाली के बाद खुलेंगे स्कूल, 1ली से 8वीं के क्लास दिसंबर से होंगे शुरू

Also Read - MPPSC : परीक्षा के प्रश्नपत्र में भीलों को 'आपराधिक प्रवृत्ति' का बताने पर सियासी घमासान

सिंहस्थ महाकुंभ में बैतुल बाजीपुरम से भगवान बालाजी की प्रतिमा एक विशेष विमान से लेकर आया जाएगा और उनका स्वागत खुद सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और नरेंद्र गिरी महराज करेंगे। बालाजी के स्वागत के लिए विशेष तैयारी की शुरुवात हो गई है। बालाजी के लिए मंदिर का निर्माण दो एकड़ की जगह में हो रहा है और इसी मंदिर में बालाजी की स्वचलित मूर्ति को विराजमान किया जाएगा। महाकुंभ की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। यह भी पढ़ें : सिंहस्थ कुंभ 2016: 13 प्रमुख अखाड़ो के अलावा शामिल होगा किन्नर अखाड़ा Also Read - VIDEO: एमपी की सड़कें कैलाश विजयवर्गीय के गालों जैसी हो गईं हैं, हेमा मालिनी के गालों जैसी बना देंगे: मंत्री

सिंहस्थ महाकुंभ में आने वाले भक्तो का भी विशेष ध्यान रखा गया है। 22 अप्रेल से शुरू हो रहे सिंहस्थ के लिए इंदौर से 6 सहित प्रदेशभर के कई स्टेशनों से कुल 78 ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। हर यात्रियों के लिए विशेष बस के भी व्यवस्था की गई है जो महज 42 रूपये में बड़ी आसानी से सफर कर सकते है। 22 अप्रैल से शुरू होने वाले इस महाकुंभ में कुल 13 अखाड़ा शामिल होंगा जिसमे 7 शैव, 3 वैष्णव व 3 उदासीन अखाड़े हैं।