f8dee457177f1361377c5640bc2426ebAlso Read - मंदिर के सामने जन्मी थीं 'मंथरा' ललिता पवार, कैसे छोटी हुई एक आंख, थप्पड़ ने बदल दी जिंदगी

रामायण में हनुमानजी की कितनी अहम भूमिका थी यह तो सभी जानते हैं मगर आप यह जानकार हैरान रह जाओगे की केवल रामायण में ही नहीं बल्कि महाभारत में भी थे। यह बात तो सभी  हनुमान चिरंजीवियों में से एक थे। चिरंजीव अमर होते हैं। Also Read - इस साल फिर से दर्शकों का मनोरंजन करने को तैयार 'रामायण', दिन और टाइम नोट कर लें

भीमा और हनुमानजी की मुलाक़ात
हनुमानजी को भीमा का भाई भी कहा जाता हैं क्योंकी दोनों ही वायु के पुत्र हैं। महाभारत में पहली बार हनुमानजी का ज़िक्र तब किया गया हैं जब पांडव वनवास में गए थे। और दूसरी बार उनका ज़िक्र कुरुक्षेत्र की लड़ाई के दौरान किया गया हैं जब हनुमानजी ने अर्जुन के रथ की रक्षा की थी। Also Read - Arvind Kejriwal बोले- मैं हनुमान जी का भक्‍त हूं, बुजुर्गों को अयोध्‍या में भगवान राम के फ्री दर्शन करवाएंगे

यह चीज़ बहुत ही काम लोगो को ही पता हैं। बजरंगबली एक संकटमोचन थे और वह समय समय पर लोगो की मदद करने पहुंचते थे।