Migrant Workers gave Makeover to Unnao School: उत्तर प्रदेश में उन्नाव जिले के नारायणपुर गांव के एक प्राथमिक विद्यालय में क्वारंटाइन में रहने के दौरान हैदराबाद से लौटे तीन प्रवासी कामगारों ने अपना समय पेटिंग में बिताया और परिसर को बिल्कुल एक नया रंग-रूप दे दिया है. Also Read - Noida: COVID-19 संक्रमण से हुई 78 फीसदी मरीजों की मौत की वजह हार्ट अटैक

उनके इस काम का जिक्र शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘गरीब कल्याण रोजगार योजना’ के शुभारंभ के दौरान अपने भाषण में किया गया. Also Read - सीनियर पत्रकार शेष नारायण सिंह का कोरोना संक्रमण के चलते निधन, PM मोदी ने शोक जताया

तीन कामगार विनोद, अरुण और कमलेश (पास के गांवों से ताल्लुक रखने वाले) हैदराबाद में पेंटिंग का काम करते थे और लॉकडाउन के बीच 22 अप्रैल को अपने गृह राज्य लौट आए. Also Read - Leopard Attack Live Video: झाड़ियों के बीच से निकला तेंदुआ, इतनी तेजी से लगाई छलांग, देखें हमले का लाइव वीडियो

कामगारों ने कहा, “हम बस खाने और सोने की दिनचर्या से ऊब चुके थे. हमने ग्राम प्रधान से पूछा कि क्या हम क्वारंटाइन सेंटर में कुछ काम कर सकते हैं. हालांकि, उन्होंने अनुमति देने से इनकार कर दिया क्योंकि हमें काम करने की इजाजत देना क्वांरटाइन प्रोटोकॉल का उल्लंघन होता.”

काफी समझाने के बाद, ग्राम प्रधान राजू यादव ने उन्हें कुछ पेंट और अन्य चीजे दे दीं और उन्हें उस स्कूल को पेंट करने की अनुमति दी, जहां वे क्वारंटाइन में थे.

ग्राम प्रधान राजू यादव ने कहा कि स्कूल को जो नया रंग-रूप मिला है उससे हम बहुत खुश हैं. मैं इन तीनों कामगारों का आभारी हूं जिनकी वजह से उन्नाव एक अच्छे कारण से चर्चा में आया है.