बंदर तो वही करते हैं जो देखते हैं. नकलची बंदरों की कहानी तो आपने भी सुनी होगी, पर बंदर उत्पात मचा-मचाकर नोट उड़ाने लगें, ये शायद ही सुना हो. ऐसा हुआ है सीतापुर, उत्तर प्रदेश में.Also Read - शादी का झांसा देकर दरोगा ने किया विधवा का बलात्कार, 2019 से बना रहा था यौन संबंध; अब पुलिस ने...

खबर के मुताबिक, सीतापुर जिले के विकास भवन रजिस्ट्री कार्यालय में एक बंदर ने हंगामा कर दिया. इतना हंगामा की लोग परेशान हो गए कि इसे रोका कैसे जाए. Also Read - सुहागरात पर दूल्हे ने दोस्तों को सौंप दी अपनी नई नवेली दुल्हन, नशीली दवा खिलाकर किया गैंगरेप

हुआ ये कि मंगलवार शाम बंदर एक बुजुर्ग से करेंसी नोटों से भरा बैग छीनकर पेड़ पर चढ़ गया. बुजुर्ग का नाम है भगवान दीन. भगवान दीन उस समय रजिस्ट्री के किसी काम से पैसे लेकर यहां पहुंचे थे. Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

बंदर को देखते ही वो उसके पीछे भागे. क्योंकि बैग में नोट भरे थे. जब वे पेड़ के पास पहुंचे तो बंदर ने उन्हें देख और करतब करने शुरू कर दिए.

आपको जानकर हैरानी होगी कि बंदर ने बैग की चेन खोली, और उसमें से 500 रुपए के नोट निकालकर फेंकना शुरू कर दिया. नोट पेड़ से नीचे गिरने लगे तो मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई.

भगवान दीन को समझ ही नहीं आया कि क्या करें. उन्होंने बंदर को केले की लालच दिया, लेकिन वो माना नहीं. फिर कुछ लोगों ने पेड़ पर चढ़कर बंदर से बैग छीनना चाहा पर ये भी न हो सका.

लोग थक-हारकर वहीं खड़े हो गए. आखिरकार करीबन एक घंटे के बाद बंदर ने बैग को नीचे फेंक दिया. लोगों ने भगवान दीन की मदद के लिए पैसों को एकत्रित कर उनके बैग में रख दिया.

बाद में भगवान दीन ने कहा कि उनके बैग में 4 लाख रुपये थे, जिसमें से बंदर ने 12,000 रुपये के करेंसी नोटों को फाड़ दिया.