वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को बहुत ही शुभ माना जाता है, क्यों किन इस दिन देश भर में अक्षय तृतीया का पर्व मनाया जाता है। अक्षय तृतीया का दिन इतना शुभ होता है की इस दिन कोई भी काम की शुरुआत को शुभ माना जाता है। इस बार अक्षय तृतीया का पर्व 9 मई, सोमवार को है। इस साल अक्षय तृतीया पर 100 साल बाद संयोग बनने जा रहा है, जब शादियां नहीं होंगी। मई महीने के शुरुआत के साथ ही विवाह के शुभ मुहूर्त भी ख़त्म हो गये हैं। कहा जाता है की इस दिन सोना और चांदी खरीदना शुभ होता है। वहीं आज के दिन की हुई पूजा का शीघ्र ही शुभ फल प्रदान होता है। चलिए आपको इस दिन किस चीज के लिए कौन से मंत्र का करना चाहिए जाप बताते हैं। इन मंत्रो के उपचारण से आपके सभी कष्ट दूर हो जाएंगे और आपके घर में हमेशा रहेगा मां लक्ष्मी का वास। यह भी पढ़ें: अक्षय तृतीया के पूजन का शुभ मुहूर्त, देवी लक्ष्मी को ऐसे करें प्रसन्न Also Read - Akshay Tritiya 2019: मां लक्ष्‍मी के इन शक्तिशाली मंत्रों का करें जाप, मिलेगा अपार धन...

Also Read - Akshay Tritiya 2019: अपनों को भेजें ये मैसेज, दें अक्षय तृतीया की बधाई...

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप: Also Read - चारधाम यात्रा 2019: अक्षय तृतीया पर शुरू होगी चारधाम यात्रा, जानें हर डिटेल...

मंत्र- ऊं ह्रीं श्रीं श्रियै फट् 

इस मंत्र के जाप से पहले आप नहाकर साफ़ कपड़े धारण कर लें, फिर अक्षय तृतीया की रात को अकेले अपने पूजा घर में बैठ कर सामने दस लक्ष्मीकारक कौड़ियां रखकर एक बड़ा तेल का दीपक जला लें और प्रत्येक कौड़ी को सिंदूर से रंग कर हकीक की माला से इस मंत्र का जाप 5 नहीं तो 11 बार करें। ऐसा करने से माता आप पर प्रसन्न हो जाएंगी और आपके जीवन में फिर कभी धन की कमी नहीं होगी।

धन लाभ के लिए अक्षय तृतीया को करें इस मंत्र का जाप:

मंत्र- सिद्धि बुद्धि प्रदे देवि भुक्ति मुक्ति प्रदायिनी।

मंत्र पुते सदा देवी महालक्ष्मी नमोस्तुते।।

इस मंत्र की 11 माला जाप करने से धन लाभ होते है। मंत्र का जाप करते समय माता लक्ष्मी के सामने जलाएं घी का दीपक।

मंत्र- ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं ऐं ह्रीं श्रीं फट्

इस मंत्र के उपचारण के समय ऊपर लिखे मंत्र का 21 माला जाप करें।

समस्याओं से निकलने के लिए सरल मंत्र:

मंत्र- हुं हुं हुं श्रीं श्रीं ब्रं ब्रं फट्

अक्षय तृतीया के दिन के दिन दिए हुए मंत्र की 51 माला जाप करने से सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है।