मुंबई: मुंबई के साकीनाका इलाके की एक मस्जिद लॉकडाउन (Lockdown) के कारण बेरोजगार हो चुके करीब 800 मजदूरों को भोजन मुहैया करा रही है. खैरानी रोड पर स्थित जामा मस्जिद अहले हदीस के मौलाना आतिफ सनाबली ने कहा कि मस्जिद आस-पास के इलाकों में लोगों को राशन भी प्रदान कर रहा है. मस्जिद के इस काम की लोगों द्वारा तारीफ़ की जा रही है.Also Read - Corona Vaccine Guideline: कैसे पता चलेगा आपने जो कोरोना वैक्सीन ली, वो असली है या नकली, ऐसे पहचानें

मौलाना आतिफ सनाबली ने कहा- “कोविड​​-19 की तरह भी भूख भी धर्म-जाति से परे किसी को भी प्रभावित कर सकती है. हमारा मकसद है कि कोई भूखा ना सोए.” उन्होंने कहा कि भोजन को सफाई से पकाया जाता है और सेवा करते समय सामाजिक दूरी का पालन किया जाता है. Also Read - डेल्टा नहीं ये है सबसे ज्यादा संक्रामक कोरोना का नया वैरिएंट, टीका भी हो रहा बेअसर!

बता दें कि देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते लॉकडाउन है. लॉकडाउन (Lockdown) तीन मई तक बढ़ा दिया गया है. पीएम मोदी ने आज ही इसका ऐलान किया है. लॉकडाउन के चलते कई लोग बेरोजगार हैं. बड़ी संख्या में मजदूरों के काम चले गए. रोज कमाने-खाने वालों के लिए मुसीबत हैं. ऐसे में देश में ऐसे लोगों की मदद के लिए कई लोग भी सामने आए हैं. ज़रूरतमंदों को खाना खिलाया जा रहा है. कई समाजसेवी संस्थाएं इस काम में जुटी हुई हैं और राशन तक उपलब्ध करा रही हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने आज ही अपील की थी कि अपने आसपास के लोगों का ख्याल रखें और किसी को भूखा न रहने दें. ज़रुरतमंदों का ख्याल रखा जाए. Also Read - आर्थिक सुधार से चालू वित्तीय वर्ष में सड़क परिवहन में 12 से 14 फीसदी सुधार का अनुमान

देश में कोरोना वायरस के चलते अब तक करीब 11 हज़ार लोग संक्रमित हैं, जबकि करीब 350 लोगों की मौत हुई है. एक हज़ार से अधिक लोग ठीक भी हुई है. कोरोना के कहर के चलते लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो रहा है. मुंबई के कई इलाकों में खराब हालात के चलते मजदूरों ने बवाल भी मचाया है. कोरोना के चलते सबसे ज्यादा हालात महाराष्ट्र के ही खराब हैं. महाराष्ट्र में अब तक कोरोना के करीब 2000 मामले सामने आए हैं, जो कि देश में सबसे अधिक हैं.