NASA Perseverance Rover: हमेशा से इन्सान मंगल ग्रह के बारे में और जानने को उत्सुक रहा है. यही वजह है कि लाल ग्रह पर आज तक कई देशों ने यान भेजने का प्रयास किया है. कई को कामयाबी भी मिली है. पर सबसे आगे है नासा. इसी कड़ी में आज नासा एक और रोवर मंगल पर भेज रहा है. Also Read - Shining Clouds: अंतरिक्ष में रोज रात चमकते हैं बादल, तारों के आगे जहां और भी हैं...

नासा कार के आकार का छह पहियों वाला रोवर भेज रहा है, जिसका नाम है पर्सवीरन्स. ये ग्रह से पत्थर के नमूने धरती पर लाएगा जिनका अगले एक दशक में विश्लेषण किया जाएगा. Also Read - पृथ्वी के करीब से गुजरेगा अबतक का सबसे विशालकाय Asteroid, NASA ने दी चेतावनी

चीन और संयुक्त अरब अमीरात मानवरहित अंतरिक्षयानों को लाल ग्रह पर भेज चुके हैं. अब तक के सबसे व्यापक प्रयास में सूक्ष्मजीवों के जीवन के निशान तलाशने और भविष्य के अंतरिक्ष यात्रियों के लिए संभावनाओं की तलाश की जाएगी. Also Read - NASA के रोवर ने मंगल ग्रह पर 21 फुट की दूरी तय की, भेजी कई तस्वीरें

बता दें कि सबसे पहले यूएई के अंतरिक्षयान ‘अमल’ ने जापान से उड़ान भरी थी. इसके बाद चीन का एक रोवर और ऑर्बिटर मंगल पर भेजा गया, इस मिशन का नाम ‘तियानवेन-1’ है.

देखें Live

अंतरिक्षयान को अगले फरवरी में मंगल तक पहुंचने से पहले 48.30 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तय करनी होगी. इस अभूतपूर्व प्रयास में कई प्रक्षेपण और अंतरिक्ष यान शामिल होंगे, जिसकी लागत आठ अरब डॉलर है.

नासा प्रशासक जिम ब्रिडेन्स्टाइन ने कहा, ‘‘हमें नहीं पता की वहां जीवन है या नहीं, लेकिन हम यह जानते हैं कि इतिहास में एक समय था जब मंगल रहने योग्य था.’’