बीजिंग: चीन में इन दिनों Operation Empty Plate अभियान चलाया जा रहा है. चीन फिलहाल अनाज की संकट से जूझ रहा है. ऐसे में अनाज की समस्या से निपटने के लिए चीन में यह अभियान चलाया जा रहा है. इस ऑपरेशन का मकसद रात के समय लोगों को कम भोजन करने व खाने की बर्बादी करने से रोकने को लेकर है. साथ ही खबरों की मानें तो चीन सरकार द्वारा एक नीति लागू की गई है, जिसके मुताबिक खाना बर्बाद करने वाले लोगों या फिर रेस्त्रां पर जुर्माने का प्रावधान है.

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस अभियान को शुरू करते हुए कहा कि इस अभियान का उद्देश्य लोगों को प्रेरित करना है कि जितने भोजन की जरूरत हो केवल उतना ही खाएं. खबरों के मुताबिक दुनिया में सबसे ज्यादा भोजन की बर्बादी चीन में होती है. यहां के कुछ वीडियो में एक शख्स को 10-10 पिज्जा खाते दिखाया गया है. यहां खाने को लेकर चैलेंज तक लगते हैं यह खेल यहां के लिए काफी पॉपुलर है. लेकिन इसे ओवर ईटिंग यानी क्षमता से बहुत ज्यादा खाना कहते हैं. लेकिन अब चीन की सरकार इसपर कानून ला चुकी है और इसपर रोक लगा चुकी है.

बता दें कि चीन में इन दिनों अनाज की तंगी चल रही है, यही कारण है चीन ने भारत से 30 सालों में पहली बार 9 करोड़ किलोग्राम चावल खरीदा है. क्योंकि साल 2019 में चीन में कुल 66 करोड़ टन अनाज पैदा हुआ है. बता दें कि यह पहली बार हुआ है जब इतनी भारी मात्रा ने चीन ने भारत से अनाज खरीदा है. खबरों की मानें तो चीन में हर साल कुल साढ़े तीन करोड़ टन खाना बर्बाद होता है. यानी की चीन के कुल खाद्य उत्पादन का 6 प्रतिशत.

बता दें कि नए कानून के तहत अगर चीन में कोई भोजन की बर्बादी करता पाया गया या ओवर ईटिंग करता पाया गया तो उसपर 1 लाख रुपये तक का जुर्माना लगाया जाएगा. यही नहीं टीवी चैनलों पर भी अगर ओवरईटिंग जैसी वीडियो दिखाई जाती है तो उसपर भी कानूनी रूप से कार्रवाई की जाएगी. सेलीब्रिटी और चैनल दोनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.