Pariksha Pe Charcha 2020: महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के एक छोटे नगर में प्रेरणा मनवार (Prerna Manvar) के बारे में बातें हो रही हैं जिसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से ‘परीक्षा पे चर्चा’ (Pariksha Pe Charcha 2020) कार्यक्रम में सुबह जल्दी उठने को लेकर होने वाली अपनी परेशानी के बारे में सलाह मांगी. प्रधानमंत्री ने सोमवार को यहां तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित ‘परीक्षा पे चर्चा’ के तीसरे संस्करण में देशभर के छात्रों से बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें अस्थायी विफलताओं से हतोत्साहित नहीं होना चाहिए. Also Read - Mann Ki Baat Live in Hindi: मन की बात में बोले PM मोदी, 'पानी, पारस से भी महत्वपूर्ण, यह हमारे लिए जीवन भी और आस्था भी है'

कन्नड़ नगर स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय की 12वीं की छात्रा प्रेरणा ने मोदी से यह कहते हुए मार्गदर्शन करने के लिए कहा कि ‘‘मेरे अभिभावक और शिक्षक मुझे रात में जल्दी सोने और सुबह जल्दी उठने के लिए कहते हैं. लेकिन मैं रात में अधिक सक्रिय रहती हूं.’’ Also Read - The India Toy Fair 2021: पीएम मोदी ने कहा- देश के खिलौनों में बहुत बड़ी ताकत, बच्चों में भारतीयता आएगी

Pariksha Pe Charcha 2020 Live Update: बोझ नहीं आत्मविश्वास लेकर एग्जाम हॉल में जाएं, बेहतर करके आएंगे Also Read - Tamil Nadu Elections: पीएम मोदी बोले- भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण क्षण में होने जा रहे तमिलनाडु विधानसभा चुनाव

मोदी ने छात्रा के सवाल की प्रशंसा की और इसे एक मासूमियत भरा सवाल बताया. उन्होंने कहा, ‘‘इसका यह मतलब है कि परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम सफल है.’’ मोदी ने कहा कि उन्हें स्वयं इस पर टिप्पणी करने का नैतिक अधिकार नहीं है क्योंकि वह स्वयं सुबह जल्दी उठते हैं लेकिन अपने व्यस्त कार्यक्रम के चलते रात में जल्दी नहीं सो पाते.’’

प्रेरणा के पिता प्रदीप मनवार ने कहा, ‘‘प्रेरणा को एक विषय के तौर पर गणित पसंद है लेकिन इंजीनियरिंग पसंद नहीं है. वह मेडिसिन में करियर बनाना चाहती है.’’ प्रेरणा औरंगाबाद जिले के कन्नड तहसील में रहती है. उनके पिता उसी संस्थान में मराठी के शिक्षक हैं जहां वह पढ़ती है. उन्होंने कहा, ‘‘प्रेरणा ने 10वीं में बिना किसी ट्यूशन के 93 प्रतिशत अंक हासिल किये थे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब वह प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आनलाइन फार्म भर रही थी तब हम लोगों से उससे ये सब छोड़कर पढ़ाई करने के लिए कहा था लेकिन उसने वह काम चुपचाप पूरा किया.’’