Love Shayari in Hindi 2020: मोहब्बत, इश्क़ और प्यार कुछ ऐसे लफ्ज़ हैं जो हर सदी में ज़िंदा रहने की सलाहियत रखते हैं. मोहब्बत को महसूस करना आसान सा लगता है मगर उस एहसास को बयां करने में अक्सर लफ़्ज़ों की कमी पड़ जाती है और जब लफ्ज़ या शब्द कम हो तब आपके जज़्बात को शायरी का सहारा लेना पड़ता है. इश्क़ जैसा पेचीदा मसाइल जब आपके सामने होता है तब आपकी नज़रें लफ़्ज़ों के खूबसूरत बांध को ढूंढ़ती हैं. ऐसे में हम आपके लिए लाए हैं कुछ बेहतरीन शायरी जिसकी मदद से आप आसानी से अपने दिल की बात किसी ख़ास तक पहुंचा सकते हैं. Also Read - Father's Day 2020 Shayari: 'बाप घर के दरख़्त होते हैं...' फादर्स डे पर पढ़िए पिता पर 10 सबसे बड़े शेर

यहां पढ़ें प्यार, मोहब्बत पर शायरी (Love and Romantic Shayari)- Also Read - Eid 2020 Hindi Urdu Shayari : ईद आई तुम न आए क्या मज़ा है ईद का... पढ़िए और भेजिए ईद पर ये चुनिंदा शायरी

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो Also Read - 'हर सपना साकार है, साथ अगर परिवार है...' International Day of Families के मौके पर पढ़िए 'परिवार' पर ये ख़ूबसूरत शायरी 

न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

-बशीर बद्र

और क्या देखने को बाक़ी है

आप से दिल लगा के देख लिया

-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ

आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ

-अहमद फ़राज़

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का

उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

-मिर्ज़ा ग़ालिब

अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए

अब इस क़दर भी न चाहो कि दम निकल जाए

-उबैदुल्लाह अलीम

हुआ है तुझ से बिछड़ने के बा’द ये मा’लूम

कि तू नहीं था तिरे साथ एक दुनिया थी

-अहमद फ़राज़

उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो

धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

-राहत इंदौरी

तुम्हें देखते हैं तो दिल में ऐसी दस्तक होती है,
जैसे सागर में लहरों की हलचल होती है,
सोचा था कभी तुम्हें बता ना पाएंगे,
इन आँखों में तुम्हारी सूरत हर पल होती है।

-अज्ञात 

बसा लें नज़र में सूरत तुम्हारी, दिन रात इसी पर हम मरते रहें,
खुदा करे जब तक चले ये साँसे हमारी, हम बस तुमसे ही प्यार करते रहें।

-अज्ञात 

जब ख़ामोश निगाहों से बात होती है,
इसी से तो प्यार की शुरुआत होती है,
आपकी यादों में खोए रहते हैं हम दिन भर,
ना जाने कब दिन और कब रात होती है।

  -अज्ञात   

समुंदर से निकलकर हमें एक किनारा मिला है,
ज़िन्दगी जीने के लिए फिर से एक सहारा मिला है,
बड़ी ही उलझनों में फँसी थी जो ज़िन्दगी,
उस ज़िन्दगी में अब साथ प्यारा मिला है।

 -अज्ञात