आपने लोगों से पुनर्जन्म की कहानियां तो सुनी होगी। लेकिन इस कहानी को सुनकर आपको ज़रूर हैरानी होगी। ये कहानी है यूपी की एक लड़की की, जिसे न सिर्फ अपने पुनर्जन्म की कहानी याद आई, बल्कि उसे कुछ ऐसा भी याद आया, जिसे सुनकर आपकी आखें खुली की खुली रह जाएगी। इस लड़की का दावा है कि वह पिछले जन्म में एक इच्छाधारी नागिन थी। जी हाँ, है न हैरानी की बात? आइये आपको इस लड़की से मिलवाते हैं, जो अपने बारे में ऐसा अविश्वसनीय दावा कर रही है। Also Read - इंजीनियरिंग की छात्रा को पिछले जन्म की जीवनसाथी बताकर महिला ने की अपहरण की कोशिश, अरेस्ट

Also Read - these signs tells you that it's your rebirth|आपको भी हों ये एहसास तो समझिए आपका भी हुआ है पुनर्जन्म Also Read - here people removed private parts of girls | भयानक!! यहाँ लड़कियों के प्राइवेट पार्ट को निकालने की है परंपरा
2

Photo: Bhaskar

यह कहानी है भोपाल के गुना जिले के मृगवास से 6 किमी दूर स्थित ग्राम जोहरीपुरा की, जहाँ रहनेवाली 19 वर्षीय रचना अहिरवार को लोग नागिन के नाम से जानते हैं। असल में रचना के अजीब बर्ताव की वजह से उसके ससुरालवालों ने उसे मायके छोड़ दिया है। इसका कारण यह है कि रचना अचानक नागिन की तरह बर्ताव करने लगती है, और उसे उस वक्त संभालना मुश्किल हो जाता है। इस बारे में रचना यह दावा करती है कि उसे करीब 20 साल पहले चरवाहों के एक समूह ने मारकर जला दिया था। लेकिन उसका साथी नाग अब भी जिंदा है, जिसकी वजह से वो अक्सर ऐसा बर्ताव करती है। ये भी पढ़ें: इच्छाधारी नाग ने दिखाई नागमणि, देखें वीडियो

1

Photo: Bhaskar

रचना की इस स्थिति के बारे में उसके पिता का कहना है कि वे अपनी बेटी को ठीक देखना चाहते हैं। एक आम पिता की तरह उन्हें भी अपनी बेटी की चिंता है। उनका कहना है कि रचना के इस बर्ताव ने उसका जीवन बरबाद कर दिया है। उनके अनुसार उन्होंने कई बाबाओं और ओझा से रचना का इलाज करवाया है, पर इसका कोई फायदा नहीं हुआ है।

3

Photo: Bhaskar

इस घटना के बाद उसे पूरा गाँव ही नहीं, बल्कि अस-पास के गाँव के लोग भी नागिन की तरह जानने लगे हैं। वे उसका नागिन की तरह ही सम्मान भी करते हैं। हालांकि एक तांत्रिक ने उसके अन्दर से कतिथ नागिन को निकालने का प्रयास भी किया था, लेकिन उस हवं से कुछ फायदा नहीं हो पाया। इस मामले में कई विशेषज्ञों का मानना है कि रचना किसी मानसिक बिमारी से ग्रस्त है। इसलिए उसे दवाओं और इलाज की ज़रूरत है।