भारत ही एक ऐसा देश है जहां लोग अनेक देवी देवताओं की पूजा करतें हैं। वहीं देश में कई तरह के मंदिर हैं और उन सबके है अपनी तरह के नियम और कानून। इन नियम और कानून को हम मान्यता भी कहतें हैं। आज हम आपको कुछ खास मंदिरों के दर्शन कराएंगे जहां जाने पर आपको पहनना पड़ेगा एक खास तरह का पोशाक। तो चलिए दर्शन करतें है उन खास मंदिरों का और देखते है क्या है वहां की अनोखी पोशाक। यह भी पढ़ें: माँ ढाकेश्वरी ने दिया था पाकिस्तानी सैनिकों को श्रापAlso Read - Attacks on Hindu Temples in Bangladesh: इस्कॉन ने PM मोदी से की अपील, कहा- हिंंसा रुकवाने बांग्लादेश में भेजें प्रतिनिधिमंडल

1 Also Read - भारत UNHRC में तीन साल के लिए बहुमत के साथ फिर से निर्वाचित, 183 वोट मिले

Also Read - संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारी बहुमत से फिर चुना गया भारत, छठी बार बना सदस्य

1. घृष्णेश्वर भगवान: घृष्णेश्वर भगवान का मंदिर है महाराष्ट्र में जहां इस रूप में भगवान शिव के ज्योतिर्लिंग की पूजा की जाती है। इस मंदिर के भीतर जाने से पहले आपको अपने सारी चमड़े से बनी हुई चीजे बहार ही निकाल कर रखनी पड़ती है। वाहा जाने के लिए आप सिर्फ धोती पेहेन कर जा सकते हैं। शरीर के ऊपरी हिसे पर कोई कपड़ा नहीं होता।

2

2. महाकाल मंदिर: महाकाल मंदिर मंदिर इस्तिथ है मध्य प्रदेश में यहाँ भी भगवान श्हिव् के एक ज्योतिर्लिंग की पूजा होती है। यहां अगर आपको भगवान का सिर्फ दर्शन करना है तो आप इस के लिए कोई भी वस्त्र में जा सकते हैं। लेकिन अगर आपको भगवान की पूजा को लेकर कुछ मान्यताएं है। इस मान्यता के मुताबिक पुरुषों को धोती और कुर्ता पहनना पड़ता है और औरतों को कोरी साड़ी को धारन करना पड़ता है।

3

3. काशी विश्वनाथ मंदिर: काशी विश्वनाथ मंदिर उत्तर प्रदेश के कशी में इस्तिथ है। कहा जाता है की भगवान शिव को यह जगह सभी जगहों मेसे सबसे अधिक पसंद है। यहां के नियम के मुताबिक लोग कुछ भी पहनकर मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। वहां महिलाओं को साड़ी और पुरुषों को सादे कपड़े में अंदर जाने की अनुमति है। आप इस मंदिर में कोई भी चमड़े से बनी हुए चीज नहीं ले जा सकते।

4

4. शिंगणापुर: शिंगणापुर मंदिर महाराष्ट्र में है। यहां है शनि भगवान का मंदिर जहां लोग अपनी मनोकामनाएं पूरी करने आते हैं। यहां के नियम के मुताबिक पुरुषों को केसरिया लुंगी या फिर धोती पहनना पड़ता है। वहीं अगर आपको भगवान को चढ़ाना है तेल से अभिषेक करना है तो आपको गीले वस्त्रों में ही करना पड़ेगा। भगवन पर वह सीधे तेल नहीं चढ़ाया जाता है वहां इसके लिए घड़ा इस्तिथ किया गया है जिस में सभी तेल डाला करते है।

5

5. गुरुवायूर कृष्ण मंदिर: गुरुवायूर कृष्ण मंदिर इस्तिथ है केरल में जहां कृष्ण भगवान की पूजा की जाती है। यह मंदिर बेहद पुराना है। इस मंदिर में पूजा करने जाने के लिए पुरुषों को केरल का पारंपरिक लुंगी को धारण करना पड़ता है। वहीं महिलाओं को साड़ी पहनने के लिए कहा जाता है।