कायदे कानून बनाने की किसी भी देश की सरकार को छूट है। अपने देश में किस चीज को अनुमति देनी है और किस पर रोक लगानी है इसके लिए वहां की सरकार स्वतंत्र है। दुनिया में कई देशों में बड़े ही अजीबो-गरीब बैन कानून हैं। कई के पीछे कोई बड़ा कारण है तो कई ऐसे भी हैं जिन्हें क्यों बनाया गया पता नहीं, लेकिन इनके बारे में जानकर आपको हंसी जरूर आ जाएगी। तो आइए बताते हैं आपको ऐसे ही बैन्स के बारे मेंAlso Read - Priyanka Chopra के पापा ने जब उनके वेस्टर्न कपड़ों पर लगा दिया था बैन, सिलवा दिए थे सलवार कुर्ते

Also Read - बिहार में कड़ी सुरक्षा के बीच मैट्रिक परीक्षा शुरू, इन चीजों पर लगाई गई पाबंदी

ब्लू जींस पर बैन Also Read - पाकिस्‍तान ने जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत के 56 मदरसों समेत कई प्रतिष्ठानों को कब्जे में लिया

उत्तरी कोरिया और अमेरिका की दुश्मनी जगजाहिर है या कहें कि इससे बेहतर तो भारत और पाकिस्तान के रिश्ते हैं। उत्तरी कोरिया के मुताबिक, ब्लू जींस प्रतीक के तौर पर अमेरिका से जुड़ी है इसलिए वहां इस पर बैन है। ब्लू के अलावा किसी भी रंग की जींस पहनी जा सकती है। अगर अभी भी यकीन न आए तो किम जोंग की कुछ कहानियां पढ़ लीजिए। मामला समझ आ जाएगा।

से नो टू किंडर जॉय

दुनिया भर में किंडर जॉय चॉकलेट बच्चों की पहली पसंद है। लेकिन अमेरिका सरकार ने इस पर बैन लगा रखा है। बच्चों की सुरक्षा के मद्देनज़र ऐसा कदम उठाया गया, ताकि यह उनके गले में न फंसे। यहां तक कि दूसरे देशों से लोग अगर इसे लेकर अमेरिका जाते हैं तो उन्हें एयरपोर्ट पर ही रोक लिया जाता है।

लड़के नहीं रख सकते चोटी

लड़कियों में बेशक बालों की चोटी बनाने का क्रेज नहीं रहा लेकिन लड़के आजकल ऐसा काफी करते दिखाई दे रहे हैं। ऐसे लोग शुक्र मनाएं कि वो भारत या दूसरे देशों में हैं क्योंकि ईरान में ऐसा करना बैन है। वहां के प्रशासन ने इसे गलत हेयरस्टाइल करार देते हुए इस पर बैन लगा दिया है। यह भी पढ़ें: इन देशों में महिलाएं नहीं दिखा सकतीं अपनी ब्रेस्ट

च्यूइंग पर बैन

अगर आप च्यूइंग गम चबाने के शौकीन हैं या आदत है तो आप सिंगापुर नहीं जा पाएंगे ऐसा ‌इसलिए क्योंकि वहां च्यूइंग गम पर बैन है। सिर्फ दवाई के रूम में च्यूइंग गम चबाने की आज़ादी है, वो भी अगर आपको डॉक्टर ने सलाह दी है तो।  साल 1992 से सिंगापुर में ये बैन कायम है।

होंठ हिलाना मना है

बैन तो आपने कई सुने होंगे लेकिन तुर्केम‌िस्तान की कहानी सुनकर कहेंगे कि ये क्या बात हुई? दरअसल वहां ‘असली संस्कृति’ को बचाने के लिए पूर्व राष्ट्रपति स्पारमूरत नियाज़ोव ने लिप सिंग‌िंग या कराओके (गाने की एक कला) पर बैन लगा दिया। साथ ही वहां ओपेरा और बैलेट को गैर-ज़रूरी मानते हुए इस पर रोक लगा दी गई थी।

रेड बुल को रेड कार्ड

हमारे देश में जहां रेडबुल खुलकर पी जाती है वहीं, फ्रांस ने साल 2008 में उस पर रोक लगा दी थी। दरअसल फ्रांस ने रेडबुल में टैरेन केमिकल मिलने पर बैन लगा दिया था।

आधी रात के बाद गेम बंद

वीडियो गेम की गंदी लत से बचाने के लिए दक्षिण कोरिया ने साल 2011 में आधी रात के बाद बच्चों के वीडियो गेम खेलने पर रोक लगा दी है। रोक रात 12.00 बजे से सुबह 6.00 बजे तक है. वैसे बच्चों की सेहत और उनकी सही परवरिश के लिए य‍ह बैन सही भी है। यह भी पढ़ें: इंसानों का मांस खाता था युगांडा का ये राष्ट्रपति, फ्रिज में रखता था उनके कटे सिर

डांस करेगी न, न, न

क्लब जाएं और डांस भी न करें, ऐसा कैसे संभव है। लेकिन जापान में वाकई ऐसा है। जापान के बड़े शहरों की नाइट लाइफ काफी मशहूर है लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि वहां नाइट क्लब में डांस पर पाबंदी है (आंशिक तौर पर)। दरअसल नैतिकता कायम रखने के लिए इस बैन को साल 1948 में अस्तित्व में लाया गया। 2020 टोक्यो ओलंपिक के मद्देनज़र कानून न‌िर्माता इसे अच्छी तरह से लागू करने का मन बना रहे हैं.