Positive Viral News: कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे देश मे हाहाकार मचा दिया है. देश के सभी कोनों से दुख भरी की ख़बरे आ रही है पर इस निराशा भरे माहौल में भी कुछ लोग एसे है जिन्होंने इंसानियत की जोत जगा रखी है. एक ऐसी ही खबर गुजरात (Gujarat) के सूरत से आई है, जहां एक नर्स चार महीने की प्रेग्नेंट है पर वह अपना फर्ज नहीं भूली और लगातार मरीजों की देखभाल कर रही है. रामज़ान की पवित्र महीना चल रहा है और नर्स ने रोज़े भी रखे है फिर भी वह इंसानियत का फर्ज नहीं भूली.Also Read - Optical Illusion: पेड़ पर बैठे हैं 3 उल्लू पर खोज पाना आसान नहीं, बड़े-बड़े उस्तादों के छूट गए पसीने । ढूंढो तो मानें

नैन्सी ऐयाज़ा मिस्त्री नाम की यह नर्स सूरत के हॉस्पिटल में काम करती है. वह चार महीने की गर्भवती है और लगातार को कोरोना से पीड़ित लोगों की सेवा में लगी है. रामज़ान के पावन महीने में रोज़ा रखते हुए वह अपना फर्ज निभा रही है. उन्होंने कहा कि लोगों की सेवा करना उनका फर्ज है और वह लोगों की सेवा को ही अपना धर्म भी मानती है. Also Read - पत्नी से सुरक्षा के लिए प्रिंसिपल पति ने कोर्ट में लगाई गुहार, कभी डंडा तो कभी बल्ले से बनता था शिकार; CCTC में कैद हुई करतूत

Also Read - शशि थरूर ने Indian Railway को घेरते हुए लिख दिया ऐसा शब्द, डिक्शनरी खोलकर बैठ गया सोशल मीडिया

आपकों बता दें कि इस वक्त माह-ए-रमजान चल रहा है. ऐसे में नैंसी लगातार रोजा रखकर अपना धर्म भी बखूबी निभा रहीं हैं. उनका कहना है, कि ‘मैं नर्स की तरह अपनी ड्यूटी कर रही हूं. मेरे लिए लोगों की सेवा ही सबसे बड़ी इबादत है.’