स्टॉकहोम : जब इस साल का नोबेल साहित्य पुरस्कार सेक्स स्कैंडल में फंस कर स्थगित हो तो आप क्या करेंगे? आसान तरीका है, आप अपना पुरस्कार सृजित कर लें.Also Read - Nobel Prize 2021: डेविड कार्ड, जोशुआ डी. एंग्रिस्ट और गुइडो इम्बेन्स को अर्थशास्त्र का नोबेल

Also Read - Nobel Prize In Literature: तंजानियाई लेखक अब्दुलरजाक गुरनाह को मिला साहित्य का नोबेल पुरस्कार

स्वीडन के एक सौ से ज्यादा बुद्धिजीवियों ने यही किया. अनेक महिलाओं पर यौन हमले करने के एक आरोपी के साथ अपने लंबे रिश्ते से नोबेल पुरस्कार विजेताओं को चुनने वाली स्वीडिश एकेडमी के संकट में फंसने के बाद इन बुद्धिजीवियों ने मिल कर पुरस्कार देने वाला एक नया निकाय बना लिया. इस नए निकाय को ‘द न्यू एकेडमी’ का नाम दिया गया है और इसके सदस्यों में लेखक, कलाकार और पत्रकार शामिल हैं. Also Read - जर्मनी के Benjamin List और अमेरिका के David MacMillan को संयुक्त रूप से मिला Chemistry का नोबेल

भारतीय मूल के अमूल थापर अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट का जज बनने की दौड़ से दूसरी बार बाहर

‘द न्यू एकेडमी’ में शामिल 107 बुद्धिजीवियों ने कहा कि वैकल्पिक पुरस्कार ‘‘पूर्वग्रह, हेकड़ीबाजी और यौनवाद’’ को नकारता है. उन्होंने एक संयुक्त वक्तव्य में कहा कि यह ‘‘लोगों को यह याद दिलाने के लिए है कि साहित्य और कला को बिना किसी विशेषाधिकार के लोकतंत्र, पारदर्शिता, संवेदना और सम्मान को बढ़ावा देना चाहिए.’’

सजा के बाद नवाज शरीफ का एलान, जेल काटने पाकिस्‍तान आ रहा हूं, कब ये तय नहीं

‘मी टू’ आंदोलन ने जहां दुनिया भर में हंगामा मचाया, स्वीडिश एकेडमी पिछले साल नवंबर में तब संकट में फंस गई जब 18 महिलाओं ने दावा किया कि इस संस्था से लंबे समय से जुड़ी एक प्रभावशाली फ्रांसीसी सांस्कृतिक हस्ती ने उनका बलात्कार किया, उन पर यौन हमले किए और उन्हें परेशान किया.

नवाज शरीफ का राजनीतिक करियर: तीन बार गिरे और संभले, लेकिन अब शायद ही उठ पाएं

इस रहस्योद्घाटन के बाद इस संकट को हल करने के मुद्दे पर इसके 18 सदस्यों में मतभेद पैदा हो गए और प्रथम महिला सचिव सारा दानियस समेत छह लोगों ने इस्तीफा दे दिया. इसके बाद एकेडमी ने मई में घोषणा की कि इस साल कोई नोबेल साहित्य पुरस्कार नहीं दिया जाएगा.