नई दिल्ली: कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते बच्चों के स्कूल काफी लंबे समय से बंद हैं. इस महामारी के चलते बच्चों को घर से ही ऑनलाइन स्कूल की पढ़ाई करनी पड़ रही हैं. वहीं अगर भारतीय बच्चों की बात की जाए तो इस लॉकडाउन के समय में बच्चों ने घर में रहकर ही कई चीजें सीखी हैं और कई अद्भुत काम भी किए हैं.  भारत के तमिलनाडु राज्य में रहने वाली एक बच्ची ने कुछ ऐसा कर दिखाया है जिसके चलते उसका नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज हो गया है. आपको बता दें कि इस बच्ची ने मंगलवार को चेन्नई में 58 मिनट में 46 डिश तैयार कर अपना नाम  यूनिको बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (UNICO Book of World Records ) में दर्ज कराया है. इससे पहले केरल की एक 10 साल की बच्ची ने 1 घंटे में 33 डिश बनाई थी. Also Read - Schools Reopen in Tamil Nadu: तमिलनाडु में आज खुले स्‍कूल, 10वीं,12वीं की कक्षाएं शुरू

यूनिको बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में नाम दर्ज कराने वाली इस बच्ची का नाम एस एन लक्ष्मी है. एएनआई से बात करते हुए एस एन लक्ष्मी ने बताया कि, मैंने अपनी माँ से खाना बनाना सीखा है. मुझे बहुत खुशी है कि मैंने यह मुकाम हासिल किया है. लक्ष्मी की मां एन कालीमगल ने बताया कि उनकी बेटी ने लॉकडाउन के दौरान खाना बनाना शुरू कर दिया था और वह वास्तव में अच्छा कर रही थी, जिसके बाद लक्ष्मी के पिता ने उन्हें विश्व रिकॉर्ड बनाने का सुझाव दिया. Also Read - राहुल गांधी Madurai में जल्लीकट्टू देखते आए नजर, टि्वटर पर ट्रेंड हुए गोबैक राहुल, वेलकम नड्डाजी

एन कालीमगल ने कहा, ‘मैं तमिलनाडु की विभिन्न पारंपरिक व्यंजन बनाती हूँ. लॉकडाउन के दौरान, मेरी बेटी रसोई में मेरे साथ अपना समय बिताती थी. जब मैंने अपने पति से उसकी खाने बनाने की रुचि पर चर्चा की तो उन्होंने सुझाव दिया कि उन्हें विश्व रिकॉर्ड बनाने का प्रयास करना चाहिए. इस तरह हमें यह विचार आया.’

इस चैलेंज के लिए विचार तब आया जब लक्ष्मी के पिता ने रिसर्च करना शुरू किया और पाया कि केरल की 10 वर्षीय लड़की सानवी ने 30 से अधिक व्यंजन बनाए. इस प्रकार, वह चाहते थे कि उनकी बेटी सानवी का रिकॉर्ड तोड़ दे.