नई दिल्ली: सब घरों में कैद हैं. लोगों की सामाजिक जिंदगी थम गई है. सोशल डिस्टेंसिंग ही बचने का तरीका बन गया. ऐसे में एक कपल से दूरी बर्दाश्त नहीं हुई. कई दिनों तक दूर रहे, बात भी न हो पाई तो दोनों को ये बर्दाश्त न हुआ. दोनों अपने घरों से चुपके से भाग निकले. परिजनों ने पुलिस को गायब होने की सूचना दी. इसके बाद दोनों को पुलिस ने पकड़ भी लिया. पुलिस ने इन्हें सजा देने की बजाय परिजनों से बात की और दोनों की मंदिर में शादी करा दी. पुलिस का ये काम और लड़का लड़की की लव स्टोरी चर्चा का विषय बनी हुई है. Also Read - लोनी में बुजुर्ग की पिटाई के Video का मामला: गाजियाबाद पुलिस ने Twitter India के MD को भेजा लीगल नोटिस

मामला उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके के जिला बाँदा का है. बाँदा जिले के पैलानी क्षेत्र के गांव खपटिहा कला की रहने वाली शीलू और पास के ही गिरवा क्षेत्र के गाँव ग्योंडी के रहने वाले लक्ष्मीकांत के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था. लॉकडाउन ने दोनों के लिए मुश्किलें खड़ी कर दीं. दोंनों फ़ोन पर एक दूसरे से संपर्क में थे, लेकिन मिल नहीं पा रहे थे. ऐसे में दोनों अपने-अपने घरों से भाग निकले. Also Read - 150 फुट गहरे बोरवेल में फंसे शिवा को सुरक्षित निकाला गया, आर्मी-पुलिस-NDRF और बच्चे की हिम्मत से लौटी ख़ुशी

लड़की के परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. पैलानी पुलिस ने 24 घंटे में ही दोनों को पकड़ लिया. पुलिस ने पहले तो लड़की को परिजनों को सौंप दिया, लेकिन लड़के लड़की एक दूसरे से शादी को कह रहे थे. इस पर चौकी इंचार्ज खपटिहा कला ने गांव के लोगों और परिजनों से बात की और दोनों की शादी का फैसला किया. गांव के प्रधान प्रतिनिधि जाहर सिंह व अन्य की मौजूदगी में दोनों को मंदिर ले गए. और दोनों की शादी करा दी. Also Read - लव मैरिज करने वाली लड़की की शादी के 13 दिन बाद मौत, माँ-बाप ने कोरोना की आड़ लेकर मार डाला!

इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया. लोगों को एकत्रित नहीं होने दिया गया. दूल्हा-दुल्हन ने एक दूसरे को वरमाला पहनाई, जिसका इंतज़ाम भी पुलिस ने ही किया. इस तरह लॉकडाउन के बीच एक लव स्टोरी अपने अंजाम तक पहुंच गई. इस लव स्टोरी की पूरे गांव में चर्चा है.