Supreme Court: कोर्ट की सुनवाई में वकील सफेद शर्ट, काला कोट पहने नजर आते हैं. कोर्ट में जाने पर तय शिष्टाचार का पालन करना अनिवार्य है. पर कोरोना काल में इस समय ऐसी अजीबोगरीब घटनाएं सामने आ रही हैं, जिसे आप-हम सोच भी नहीं सकते.Also Read - Delhi Schools Reopen: दिल्ली में कल से खुलेंगे सभी स्कूल-कॉलेज-सरकारी दफ्तर, ट्रकों की एंट्री नहीं

कोर्ट में वर्चुअल सुनवाई हो रही है. अब सुप्रीम कोर्ट ने जोर देकर कहा है कि वर्चुअल (वीडियो कांफ्रेंस) सुनवाई के दौरान न्यूनतम न्यायालय शिष्टाचार बनाए रखे जाने चाहिए. अदालत ने यह टिप्पणी इसलिए की, क्योंकि एक वकील सुनवाई के दौरान टी-शर्ट पहने हुए बिस्तर पर लेटे दिखाई दिए. Also Read - Delhi Pollution: दिल्ली में बढ़ा प्रदूषण, नाराज हुए विधानसभा अध्यक्ष, कहा-मेरी बीवी एक महीने से घर के बाहर नहीं निकली

न्यायमूर्ति एस. रविंद्र भट ने कहा कि वीडियो कांफ्रेंस के जरिए मुकदमों की सुनवाई में शामिल हो रहे वकील कम से कम पेशी के अनुरूप दिखने चाहिए. उन्होंने कहा कि अदालत को ऐसी तस्वीरें दिखाने से बचना चाहिए, जो किसी भी लिहाज से उपयुक्त नही हैं. Also Read - Rajasthan REET Exam 2021: अगर हुआ ऐसा तो अटक जाएगी 31000 शिक्षकों भर्ती, जानें क्या है बीएड-बीएसटीसी विवाद

अदालत ने कहा कि ऐसी तस्वीरें उनके घरों की निजता के दायरे में ही सहन की जा सकती हैं, मगर सुनवाई के दौरान अदालत के आदशों और शिष्टाचार का अनुपालन किया जाना चाहिए.

न्यायाधीश ने नाखुशी व्यक्त करते हुए कहा कि एक वकील को सुनवाई की सार्वजनिक प्रकृति को देखते हुए सही ढंग से कपड़े पहनने चाहिए.

बता दें कि शीर्ष अदालत कोविड-19 महामारी के कारण वीडियो लिंक के माध्यम से सुनवाई कर रही है.

वकील के टी-शर्ट पहनकर सुनवाई में शामिल होने की यह घटना रेवाड़ी (हरियाणा) की एक पारिवारिक अदालत में लंबित मामले को बिहार के जहानाबाद की अदालत में स्थानांतरित करने का अनुरोध वाली याचिका पर सुनवाई के दौरान घटी.

हालांकि वकील ने अपने इस व्यवहार के लिए अदालत से मांफी मांगी, जिसके बाद न्यायमूर्ति एस. रविंद्र भट ने उनकी गुजारिश स्वीकार करते हुए उन्हें माफ कर दिया.
(एजेंसी से इनपुट)