GettyImages-55327431Also Read - Kundali Bhagya spoiler alert: करण और प्रीता बारिश में कर देंगे सारी हदें पार, होगा जबरदस्त रोमांस

पुरानी कहावत हैं की महिलाए अपने पेट में कोई बात पचा नहीं सकती। महिलाएं राज़ की बात किसी ना किसी को बोल ही देती हैं। वह कभी भी कोई बात गुप्त नहीं रख सकती। मगर क्या आपने सोचा हैं की तकरीबन हर महिला के साथ ऐसा क्यों होता हैं। इस सवाल का जवाब महर्षि वेदव्यास द्वारा लिखी गई महाभारत में मौजूद हैं। Also Read - रामायण' ने तोड़ा रिकॉर्ड, बना दुनिया का सबसे ज्यादा देखे जाने वाला शो

महाभारत के अनुसार महाराज युधिष्ठिर ने संसार की सभी स्त्रियों को कोई भी बात गुप्त ना रखने का श्राप दिया था। तभी से ऐसा माना जाता हैं की महिलाएं राज की बात गुप्त नहीं रख पाती और वह किसी ना किसी को वह बता ही देती हैं। Also Read - लॉकडाउन के बीच 'कपिल शर्मा शो' के फैंस को बड़ा तोहफा, टीवी पर मशहूर गुलाटी की भी हुई वापसी

युधिष्ठिर ने क्यों दिया था श्राप

महाभारत में ऐसा लिखा गया हैं की युद्ध समाप्त होने के बाद जब युधिष्ठिर को माता कुंती ने बताया की कर्ण तुम्हारा बड़ा भाई था, तब पांडवों को बड़ा क्रोध हुआ। युधिष्ठिर ने कर्ण का अंतिम संस्कार भी किया। कुंती ने जब पांडवो को कर्ण के जन्म का रहस्य बताया तो गुस्से में आकर युधिष्ठिर ने सम्पूर्ण स्त्री जाती को श्राप दिया की, कोई भी स्त्री गुप्त बात छुपाकर नहीं रख सकेगी।