नई दिल्ली: कनाडा में एक महिला को सिर्फ इसलिए नौकरी से निकाल दिया क्योंकि उसने ब्रा नहीं पहनी थी, अब महिला ने इसके खिलाफ मानव अधिकार के उल्लंघन के आरोप में शिकायत दर्ज करवाई है. Also Read - जिसने किया था रेप, उस आरोपी को सामने बिठाकर महिला ने की 4 घंटे बात, फिर दे दी माफी

Also Read - 'कनाडा के 'समर्थन' के चलते ही प्रदर्शनकारी किसानों ने कड़ा रुख अपनाया', पूर्व राजनयिकों का आरोप

डेली मेल की खबर के मुताबिक कनाडा के शहर अल्बर्टा में क्रिस्टीना शैनल नाम की महिला के ऑफिस में नया ड्रेस कोड लागू किया गया था जिसमें महिलाओं के लिए वर्किंग ऑवर्स के दौरान ऑफिस में ब्रा या अंडरशर्ट पहनने को जरूरी किया गया था. लेकिन क्रिस्टीना ने इसे मानव अधिकार का उल्लंघन बताया और ब्रा पहनने से इनकार कर दिया, जिसके बाद उन्हें ऑफिस से निकाल दिया गया. Also Read - कनाडा के बाद ब्रिटेन के 36 सांसदों ने किया किसान आन्दोलन का समर्थन, 'संयुक्त राष्ट्र' पहुंचा मामला

मुकेश अंबानी ने तिरुमाला मंदिर को 1.1 करोड़ रुपये का दान दिया

शैनल ने नौकरी से निकालने वाले अपने बॉस पर जेंडर के आधार पर भेदभाव करने का भी आरोप लगाया. शैनल ने कहा, ”ऐसा ड्रेस कोड लागू करना जिसमें महिलाओं के लिए ब्रा पहनना अनिवार्य हो, यह एक तरह से जेंडर के आधार पर भेदभाव है और इसलिए यह मानव अधिकार का मामला है.”

खबर के मुताबिक, 25 साल की शैनल ने मई में इस रेस्तरां में सर्वर के तौर पर नौकरी की शुरूआत की थी और दो साल पहले ब्रा पहननी छोड़ दी थी क्योंकि ब्रा में वह अनकंफर्टेबल महसूस कर रही थीं. शैनल ने कहा कि उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि ब्रा नहीं पहनने की वजह से एक दिन उनकी नौकरी भी जा सकती है.

भारत में हनीमून मनाने के लिए ब्रिटिश दंपति ने बुक कराई पूरी ट्रेन

वहीं जिस रेस्तरां से शैनल को निकाला गया है वहां के जनरल मैनेजर डाउ रॉब का दावा है कि नए नियम महिलाओं की सुरक्षा के लिए ही बनाए गए हैं. खैर अब शैनल ने शिकायत तो दर्ज करवा दी है और कार्रवाई का इंतजार कर रही हैं.