Bengal Me Kab Khulenge School or College: कोरोना की दूसरी लहर का कहर कम होने के बाद देश के कई राज्यों में लॉकडाउन पाबंदियों में ढील दी गई है. धीरे-धीरे जरूरी गतिविधियां बहाल की जा रही हैं. राज्य सरकार ने स्कूल और कॉलेज खोलने भी शुरू कर दिये हैं. इन सबके बीच बंगाल में भी स्कूलों को खोलने पर विचार किया जा रहा है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार नवंबर में दुर्गा पूजा की छुट्टियों के बाद स्कूलों और कॉलेजों को वैकल्पिक दिनों में खोलने पर विचार कर रही है.Also Read - Delhi Me School Kab Khulenge: दिल्ली में पहली से 8वीं तक के स्कूलों को खोलने पर फैसला आज! जानें DDMA की बैठक में क्या-क्या उठेंगे मुद्दे

मालूम हो कि पिछले साल मार्च में कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद से राज्य में शैक्षणिक संस्थान बंद हैं. ममता बनर्जी ने सचिवालय में पत्रकारों से कहा, ‘अब तक कुछ भी तय नहीं हुआ है.’ मुख्यमंत्री ने नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अभिजीत विनायक बनर्जी की अगुवाई वाले वैश्विक सलाहकार बोर्ड (जीएबी) की बैठक के बाद यह टिप्पणी की है. Also Read - School Kab Khulenge: इस राज्य में 1 नवंबर से खुल जाएंगे पहली से 8वीं तक के स्कूल, जानें सरकार का ताजा फैसला...

इससे एक दिन पहले बिहार में भी स्कूलों को खोलने का फैसला लिया गया. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की अध्यक्षता में बुधवार को आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में अनलॉक (Bihar Unlock Update) को लेकर कई फैसले लिए गए, जिनमें स्कूलों को खोलना भी शामिल है. राज्य में 6 अगस्त से 9वीं और 10वीं के स्कूल खोले जाएंगे. वहीं, पहली से 8वीं तक के स्कूल 15 अगस्त से खोले जाएंगे. सरकारी की तरफ से जारी गाइडलाइंस के मुताबिक स्कूलों में फिलहाल सिर्फ 50 फीसदी छात्रों की उपस्थिति ही रहेगी. Also Read - Bhabanipur ByPoll: भवानीपुर में BJP उपाध्यक्ष दिलीप घोष के साथ धक्का-मुक्की, चुनाव आयोग ने राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट

इससे पहले ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गुरुवार को पत्र लिखकर आशंका जताई कि अगर राज्य में टीकों की आपूर्ति नहीं बढ़ाई गई तो कोविड की स्थिति गंभीर रूप ले सकती है. उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य का आबादी घनत्व बहुत अधिक होने के बावजूद उसे टीकों की “बहुत कम खुराकें” मिल रही हैं और प्रधानमंत्री से टीकों की आपूर्ति बढ़ाने की अपील की.

उन्होंने कहा कि राज्य को सभी पात्र लोगों को टीका लगाने के लिए कोविड टीकों की करीब 14 करोड़ खुराकों की जरूरत है. बनर्जी ने पत्र में लिखा, ‘वर्तमान में, हम हर दिन चार लाख टीके दे रहे हैं और 11 लाख खुराकें हर दिन देने की क्षमता है। फिर भी, आबादी घनत्व अधिक होने और शहरीकरण की दर ज्यादा होने के बावजूद हमें बहुत कम खुराकें मिल रही हैं.’
(इनपुट: भाषा)