पश्चिम बंगाल की भवानीपुर विधानसभा सीट (Bhabanipur By-polls) पर होने वाले उपचुनाव में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) का मुकाबाल BJP उम्मीदवार प्रियंका टिबरीवाल (Priyanka Tibrewal) से है. ममता बनर्जी और प्रियंका टिबरीवाल दोनों ने नामांकन पत्र दाखिल कर लिया है. इन सबके बीच चुनाव आयोग ने BJP उम्मीदवार प्रियंका टिबरीवाल को कथित चुनाव आचार संहिता उल्लंघन को लेकर कारण बताओ नोटिस जारी किया है.Also Read - Arogya Vatika: यूपी के सभी स्कूलों, कॉलेजों में होगी आरोग्य वाटिका, ये है योगी सरकार का मकसद

तृणमूल कांग्रेस ने शिकायत की थी कि टिबरीवाल ने अपना नामांकन पत्र दाखिल करते समय बड़ी संख्या में समर्थकों को इकट्ठा करके चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है. इसके बाद आयोग ने यह कदम उठाया. अपनी शिकायत में, तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया कि टिबरीवाल ने बिना किसी अनुमति के भीड़ को इकट्ठा करके आदर्श आचार संहिता और कोविड ​​से संबंधित दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया है. तृणमूल कांग्रेस ने दावा किया कि उन्होंने अपना नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए जाते समय रास्ते में ‘धुनुची नृत्य’ (आमतौर पर दुर्गा पूजा के दौरान किया जाने वाला पारंपरिक बंगाली नृत्य) भी किया. Also Read - सम्बन्ध खराब थे, फिर भी TMC में सम्मान मिला, ममता दीदी का आभारी हूं: बाबुल सुप्रियो

निर्वाचन अधिकारी द्वारा मंगलवार को जारी नोटिस में भवानीपुर थाने के प्रभारी अधिकारी द्वारा सौंपी गई रिपोर्ट का भी उल्लेख किया गया है, जिसमें उन्होंने शंभूनाथ पंडित स्ट्रीट और अन्य स्थानों पर भाजपा समर्थकों की एक बड़ी सभा के बाद यातायात जाम होने का उल्लेख किया था. हालांकि टिबरीवाल ने इन आरोपों को खारिज किया है. उन्होंने बुधवार को दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस उनके 30 सितंबर को होने वाला उपचुनाव लड़ने से भयभीत है और उन्हें चुनाव प्रचार से रोकने के लिए निर्वाचन आयोग में इस तरह की शिकायत दर्ज कराई गई है. Also Read - BJP ने दिल्ली के 3 पार्षदों को किया निष्कासित, कुछ और पर भी गिरेगी गाज, ये है वजह

उन्होंने कहा, ‘तृणमूल कांग्रेस की उस शिकायत के बाद निर्वाचन आयोग ने मुझे एक पत्र भेजा है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि जब मैं अपना नामांकन दाखिल करने गई थी तो मैंने बड़ी संख्या में लोगों को एकत्र किया और इस तरह आदर्श आचार संहिता के साथ-साथ कोविड​​-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया। मैं उसका जवाब दूंगी.’

टिबरीवाल ने कहा, ‘लेकिन, मैं यह बताना चाहूंगी कि शुभेंदु अधिकारी के अलावा उस वाहन में कोई नहीं था जिसमें मैं अपना नामांकन पत्र दाखिल करने गयी थी. मैंने किसी भीड़ का नेतृत्व नहीं किया था. यह देखना मेरा काम नहीं है कि बाइक और चौपहिया वाहनों पर सड़कों पर कौन चल रहा था. यह पुलिस और स्थानीय प्रशासन का काम है.’ इस सीट पर उपचुनाव 30 सितंबर को होंगे और परिणाम की घोषणा तीन अक्टूबर को की जायेगी.

(इनपुट: भाषा)