कोलकाता: पश्चिम बंगाल (West Bengal) के आसनसोल में एक विशेष सीबीआई अदालत (CBI Court) ने सीमा पार से गाय तस्करी के रैकेट में शामिल फरार तृणमूल कांग्रेस के युवा विंग के नेता विनय कुमार मिश्रा (Vinay Kumar Mishra) के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.Also Read - ममता बनर्जी ने कहा- महाराष्ट्र में जो हो रहा, उसके पीछे बीजेपी, राष्ट्रपति चुनाव के लिए संख्याबल हासिल करने की है चाल

तृणमूल युवा कांग्रेस के महासचिवों में से एक विनय कुमार मिश्रा को पिछले एक महीने में कई बार केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा बुलाया गया, लेकिन वो पेश नहीं हुए. सूत्रों ने कहा कि अंतिम सम्मन 19 जनवरी को दिया गया था. एजेंसी ने उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस भी जारी किया है. सूत्रों ने कहा कि सीबीआई ने हाल ही में कोलकाता के राशबिहारी एवेन्यू इलाके में मिश्रा के आवास पर छापा मारा था, लेकिन उन्हें गिरफ्तार करने में विफल रही थी, क्योंकि वह फरार है. Also Read - Rashtrapati Chunav: उमा भारती ने यशवंत सिन्हा से उम्मीदवारी वापस लेने का अनुरोध किया, ट्वीट कर कही यह बात...

इस बीच, दिल्ली में सूत्रों ने कहा कि सीबीआई (CBI) की टीम ने बुधवार को पश्चिम बंगाल के दो स्थानों पर तलाशी ली, जिसमें कोलकाता से लगभग 60-70 किलोमीटर दूर तृणमूल कांग्रेस के नेता बारिक विश्वास के ठिकाने भी शामिल हैं. सूत्रों ने बताया कि पशु तस्करी मामले में बिस्वास का नाम सामने आया था, जिसमें कहा गया था कि बिस्वास पहले भी तस्करी के मामलों में शामिल रहा है. Also Read - IAS की नौकरी छोड़ ज्वाइन की राजनीति, ऐसा है विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा का राजनीतिक सफर; द्रौपदी मुर्मू से है मुकाबला

इस साल अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) से पहले ये कार्रवाई की गई है. केंद्रीय एजेंसी अब मवेशी-तस्करी के रैकेट की बड़ी साजिश की जांच कर रही है. सीबीआई (CBI) ने पिछले साल सितंबर में छह लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी, जिसमें कुछ सीमा सुरक्षा बल और सीमा शुल्क अधिकारी शामिल थे, जिन्हें अंतरराष्ट्रीय पशु तस्करों द्वारा कथित रूप से रिश्वत दी गई थी.