नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के पूर्व विधायक और पूर्व सीएम श्यामा प्रसाद मुखर्जी को भ्रष्टाचार का आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है. बीजेपी नेता को पुलिस ने घोटाले के आरोप में गिरफ्तार किया है. बीजेपी नेता पर 10 करोड़ के घोटाले का आरोप है. आरोप है कि ये घोटाला तब हुआ जब बीजेपी नेता बिष्णुपुर नगर पालिका के चेयरमैन भी थे.Also Read - West Bengal News: पश्चिम बंगाल में दिलीप घोष की जगह सुकांता मजूमदार बने BJP प्रदेश अध्यक्ष

पश्चिम बंगाल के बांकुरा एसपी धृतिमान सरकार ने बताया कि करोड़ों रुपए की हेराफेरी का मामला है. बीजेपी नेता को अरेस्ट किया गया है. मामले की जांच की जा रही है. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले टीएमसी छोड़ दी थी. वह भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे. बीजेपी ने उन्हें टिकट दिया था, लेकिन वह चुनाव नहीं जीत सके थे. Also Read - उमा भारती ने कहा- अफसरों की औकात ही क्या, वो हमारी चप्पल उठाते हैं, नेता उनकी...

पुलिस सूत्रों के मुताबिक- नगर पालिका चेयरमैन रहने के दौरान 10 करोड़ रुपए का हेरफेर हुआ. ठेका देने में हेरफेर हुआ. बीजेपी नेता से पूछताछ की जा रही है. बड़ी राशि का घोटाला किया गया. पुलिस बीजेपी नेता ने कोर्ट में पेश किया, जहाँ से चार दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है. Also Read - बंगाल में ममता बनर्जी के सामने क्यों हारी BJP, पार्टी छोड़ TMC में गए बाबुल सुप्रियो ने बताया

जिला पुलिस सूत्रों ने बताया है कि नगरपालिका के चेयरमैन रहने के दौरान ठेका देने में उन्होंने करीब 10 करोड़ रुपये का हेरफेर किया है. उनसे पूछताछ हो रही है. यह भी पता चला है कि अपने कई अन्य साथियों के साथ मिलकर उन्होंने बड़ी रकम का गबन किया है, उन्हें कोर्ट में पेश करने की तैयारी की जा रही है.

पश्चिम बंगाल के बीजेपी चीफ दिलीप घोष ने कहा कि टीएमसी छोड़ बीजेपी में जाने की वजह से बीजेपी नेता को अरेस्ट किया गया है. बीजेपी ने इसे राजनीतिक दुर्भावना बताया है.