कोलकाता: पश्चिम बंगाल में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बड़ा दांव खेला है. मंगलवार को उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अब राज्य के शिक्षक, होमगार्ड और पुलिस अधिकारी अपने गृह जिले में काम करने के लिए अप्लाई कर सकते हैं. Also Read - Bengal Polls: शुभेंदु अधिकारी ने Mamata Banerjee पर फिर बोला हमला- 'अभी से ही उन्हें पूर्व CM लिखा लेटर पैड तैयार रखना चाहिए'

उन्होंने कहा कि होमगार्ड और अन्य पुलिस अधिकारी जिन्होंने 15 वर्ष पूरे कर लिए हैं वे काम करने के लिए अपने गृह जिले में वापस आ सकते हैं. इसके तहत 50,000 से अधिक आवेदन जमा किए गए थे, जिनमें से 35,000 के करीब अधिकारियों को उनके गृह जिलों में काम करने के लिए रखा जा चुका है. Also Read - पूर्वी मिदनापुर में सुवेंदु अधिकारी की रैली से पहले TMC-भाजपा कार्यकर्ताओं में हिंसक झड़प, कई घायल

ममता बनर्जी ने कहा, “प्राथमिक और अन्य शिक्षकों के लिए भी हमने यही अधिसूचना जारी की थी. इसके तहत शिक्षक भी अपने गृह जिलों के स्कूलों में वापस जाने के लिए आवेदन कर सकते हैं. अभी तक 5,000 से अधिक आवेदन जमा किए गए थे, जिनमें 3,000 को गृह जिलों में रखा गया है.” Also Read - West Bengal Polls 2021: शुभेंदु अधिकारी का ममता बनर्जी पर हमला- 'नंदीग्राम से TMC प्रमुख को 50 हजार वोटों से नहीं हराया तो...'

ममता बनर्जी ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण जान गंवाने वाले नागरिक स्वयंसेवकों के परिवार के सदस्य को नौकरी दी जाएगी.

इसके अलावा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि शाह पर राज्य के विकास के संदर्भ में झूठ बोलने का आरोप लगाया और राज्य की स्थिति पर शाह द्वारा दिए गए आंकड़ों को “झूठ का पुलिंदा” करार दिया.

बनर्जी ने कहा, “मैं अमित जी से कहना चाहती हूं कि आप गृह मंत्री हैं और आपको यह शोभा नहीं देता कि आप अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं की ओर से मुहैया कराए गए झूठ की पड़ताल किये बिना उसका बखान करें.”