पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) एक बार फिर राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) पर जमकर हमला बोला और उन्हें भ्रष्ट तक कह दिया. ममता बनर्जी ने कहा कि राज्यपाल जगदीप धनखड़ एक भ्रष्ट व्यक्ति हैं, 1996 के जैन हवाला मामले के आरोपपत्र में उनका नाम आया था. हालांकि राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने अपने ऊपर लगाए गए आरोप को निराधार बताया और ममता बनर्जी पर पलटवार किया.Also Read - ममता बनर्जी ने कहा- महाराष्ट्र में जो हो रहा, उसके पीछे बीजेपी, राष्ट्रपति चुनाव के लिए संख्याबल हासिल करने की है चाल

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने सार्वजनिक तौर पर कुछ गंभीर आरोप लगाए. ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मुझे उम्मीद नहीं थी की वे सनसनी फैलाने के लिए गलत जानकारी देंगी और गलत तरीके से प्रस्तुत करेंगी. Also Read - Rashtrapati Chunav: उमा भारती ने यशवंत सिन्हा से उम्मीदवारी वापस लेने का अनुरोध किया, ट्वीट कर कही यह बात...

Also Read - IAS की नौकरी छोड़ ज्वाइन की राजनीति, ऐसा है विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा का राजनीतिक सफर; द्रौपदी मुर्मू से है मुकाबला

उन्होंने ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा कि आपके राज्यपाल को चार्जशीट नहीं किया गया है. ऐसा कोई डाक्यूमेंट नहीं है. यह गलत सूचना है. मैंने हवाला चार्जशीट में किसी कोर्ट से स्टे नहीं लिया है, क्योंकि यह था ही नहीं. उन्होंने कहा कि यशवंत जी (यशवंत सिन्हा) हवाला केस में चार्जशीच में थे इसलिए ममता बनर्जी को उनसे चर्चा करनी चाहिए. क्या उनको (ममता बनर्जी) जनादेश इन बातों के लिए मिला है कि सभी संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट किया जाए. इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती.

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ को सोमवार को एक ‘भ्रष्ट व्यक्ति’ कहा और उनकी हाल की उत्तर बंगाल यात्रा के उद्देश्य पर सवाल उठाया. उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य के उत्तरी हिस्से को विभाजित करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है. उन्होंने राज्य सचिवालय में संवाददाताओं से कहा, ‘वह एक भ्रष्ट आदमी हैं. उनका नाम 1996 के हवाला जैन मामले के आरोप पत्र में था. केंद्र सरकार ने राज्यपाल को इस तरह से बने रहने की अनुमति क्यों दी है?’ बनर्जी ने कहा कि धनखड़ का उत्तर बंगाल दौरा एक ‘राजनीतिक हथकंडा’ था क्योंकि वह केवल भाजपा के विधायकों और सांसदों से मिले थे.

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया, ‘उन्होंने अचानक उत्तर बंगाल का दौरा क्यों किया? मुझे उत्तर बंगाल को बांटने के षड्यंत्र का आभास हो रहा है.’ तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने कहा कि वह धनखड़ को हटाने के लिए केंद्र को कई पत्र लिख चुकी हैं. बनर्जी ने कहा, ‘संविधान के अनुसार, मैं उनसे मिलना, उनसे बात करना और सभी शिष्टाचार का पालन करना जारी रखूंगी.. किंतु केंद्र सरकार को मेरे पत्रों के आधार पर कार्य करना चाहिए.’

मालूम हो कि ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच शुरुआत से ही काफी कड़वाहट रही है. राज्यपाल पश्चिम बंगाल की कानून व्यवस्था को लेकर अक्सर ममता सरकार को घेरेत रहे हैं तो सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस की ओर से राज्यपाल को कोसने में कोई कोताही नहीं की गई है.

(इनपुट: ANI,भाषा)