West Bengal: कलकत्ता हाईकोर्ट (Calcutta High Court) की खंडपीठ के सामने अब उच्च प्राथमिक शिक्षकों (Upper Primary Teachers) की नियुक्ति का मामला आ गया है. लगभग 120 उम्‍मीदवारों ने इसके लिए आवाज उठायी है और खंडपीठ के सामने मामला दर्ज करवाया है. बीते 11 दिसंबर को उच्च न्यायालय की एकल पीठ के फैसले को चुनौती दिया गया. Also Read - 'बंगाल को गुजरात नहीं बनने देंगे', ममता बनर्जी बोलीं- जो लोग TMC छोड़ना चाहते हैं, जितना जल्दी हो सके छोड़ दें

एकल पीठ की न्यायाधीश मौसमी भट्टाचार्य ने उच्च प्राथमिक की मेरिट सूची (Merit List) और भर्ती की प्रक्रिया को रद्द कर दिया था. नौकरी की उम्मीदवार मोउमिता घोष ने उस फैसले को चुनौती दी है. मोउमिता और कई अन्य लोग मेरिट सूची में शामिल थे. इन सभी ने आरोप लगाया है कि एक पीठ के फैसले ने उन सभी को नियुक्ति पाने के अधिकार से वंचित कर दिया है. मोउमिता ने इसके खिलाफ खंडपीठ के सामने अपील की है. Also Read - ‘जय श्रीराम’ के नारेबाजी पर नाराज हुईं ममता बनर्जी, मोदी के मंच पर बोलीं- बुलाकर बेइज्जत करना ठीक नहीं

एकल पीठ ने पूरी प्रक्रिया को भ्रष्टाचार बताते हुए रद्द करने का फैसला सुनाया था. न्यायमूर्ति मौसमी भट्टाचार्य ने TET की प्रक्रिया नए सिरे से शुरू करने का भी निर्देश दिया था. अदालत के अनुसार नई प्रक्रिया अगले साल जनवरी से शुरू की जानी चाहिए. डाक्युमेंटेशन और काउंसिलिंग (Documentation and counselling) की प्रक्रिया 5 अप्रैल तक पूरी होनी चाहिए. मेरिट लिस्ट 10 मई तक प्रकाशित होनी है. फिर भर्ती प्रक्रिया 31 जुलाई तक पूरी करनी होगी. उल्लेखनीय है कि उच्च प्राथमिक भर्ती परीक्षा पांच साल पहले 2015 में आयोजित की गई थी. Also Read - ममता बनर्जी का बड़ा बयान, बोलीं- भारत जैसे बड़े देश के लिए हों 4 राष्ट्रीय राजधानी