West Bengal Latest News: Former TMC Asansol district Chief Jitendra Tiwari says, “I’m with TMC & will apologise to Chief Minister Mamata Banerjee.”  पश्चिम बंगाल में केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के पहले ही इस्‍तीफा देने वाले TMC विधायक और आसनसोल नगर निगम के पूर्व प्रमुख जितेंद्र तिवारी ने पार्टी छोड़ने के बाद शुक्रवार को देर रात अपने फैसले से पलट गए. जितेंद्र तिवारी (Jitendra Tiwari) ने परिश्‍चम बंगाल के मंत्री और टीएमसी नेता अनूप विश्‍वास से शुक्रवार को रात में मुलाकात की. TMC MLA जितेंद्र तिवारी ने कहा, ”मैं टीएमसी के साथ हूं और मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी से माफी मांगूगा.” Also Read - अमित शाह बोले- कृषि कानून से दोगुनी होगी आय, राकेश टिकैत ने कहा- हम आंदोलन खत्म नहीं करेंगे, किसी भी जांच से नहीं डरते

बता दें कि बंगाल में केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के पहले शुक्रवार को सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को एक के बाद एक झटके लग लगे हैं. पांडवेश्वर के विधायक और आसनसोल नगर निगम के प्रमुख जितेंद्र तिवारी ने भी पार्टी छोड़ दी थी और चर्चा थी कि वह भाजपा में शामिल हो सकते हैं, लेकिन अब वह अपने फैसले से पलट गए हैं.

दरअसल, दो विधायकों शुभेंदु अधिकारी और जितेंद्र तिवारी समेत तृणमूल कांग्रेस के चार वरिष्ठ नेताओं के पार्टी छोड़ने के एक दिन बाद शुक्रवार को बैरकपुर के विधायक शीलभद्र दत्ता और कंथी उत्तर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक बनश्री मैती ने भी अपना इस्तीफा दे दिया था. वहीं, विपक्षी माकपा को भी झटका लगा है क्योंकि शुक्रवार को विधायक तापसी मंडल ने पार्टी छोड़ दी है.

बैरकपुर के विधायक शीलभद्र दत्ता ने शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था. दत्ता दो बार विधायक रह चुके हैं. दत्ता ने बताया कि उन्होंने तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी को ईमेल कर अपना इस्तीफा भेज दिया है. तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी विधायक पद से और पार्टी से पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. इससे पहले उन्होंने राज्य सरकार में मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

शुक्रवार को देर रात केंद्रीय मंत्री व बीजेपी के शीर्ष नेता अमित शाह शुक्रवार को देर रात कोलकाता पहुंच चुके हैं. प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष अर्जुन सिंह ने दावा किया कि करीब 10-12 विधायक, तृणमूल कांगेस और अन्य दलों के कुछ नेता भी बीजेपी में शामिल होंगे.

दरअसल, पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी को छोड़ने के एक दिन बाद विधायक जितेंद्र तिवारी के बीजेपी में शामिल होने का विरोध केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने किया था. इसके साथ ही कई स्‍थानीय बीजेपी नेताओं ने भी तिवारी के भाजपा में शामिल किए जाने का विरोध किया था.

केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि वह यह सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश करेंगे कि भाजपा कार्यकर्ताओं पर ‘अत्याचार’ करने वाले टीएमसी नेताओं को उनकी पार्टी में शामिल न किया जाए. इसके बाद पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी को छोड़ने के एक दिन बाद विधायक जितेंद्र तिवारी ने शुक्रवार को अपना सुर बदलते हुए पार्टी के शीर्ष नेता से मिलने की इच्छा व्यक्त की थी.

बता दें कि आसनसोल नगर निकाय के प्रमुख तिवारी ने पार्टी के पूर्व नेता शुभेन्दु अधिकारी के नक्शेकदम पर चलते हुए बृहस्पतिवार को टीएमसी छोड़ दी थी. नेताओं के करीबी सूत्रों ने संकेत दिया था कि वे जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकते हैं, लेकिन बीजेपी नेताओं के तिवारी के लिए नई राह पर चलना आसान नहीं था.