Vishwa Bharati University Convocation: पश्चिम बंगाल की विश्व भारती यूनिवर्सिटी का आज दीक्षांत समारोह हुआ. इस दौरान वीडियो कांफ्रेंस के जरिये हिस्सा लेते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यहाँ पढ़ने वाले छात्र एक यूनिवर्सिटी नहीं बल्कि एक जीवंत परंपरा का हिस्सा हैं. पीएम मोदी ने कहा कि अगर आप देश को सबसे आगे रखते हैं तो आपको समस्याओं में ही समाधान मिलेगा. अगर आपके इरादे नेक हैं और ‘मां भारती’ के प्रति श्रद्धा है तो आपका हर निर्णय आपको समाधान की तरफ ले जाएगा. भारत अपनी बेटियों के आत्मविश्वास के बिना ‘आत्मनिर्भर’ नहीं बन सकता.Also Read - West Bengal: स्कूल-कॉलेजों को खोलने की मांग, कहा- जब शराब की दुकानें खुल सकती हैं तो कोरोना नियमों के साथ शिक्षण संस्थान क्यों नहीं?

पीएम मोदी ने कहा कि ज्ञान और शक्ति के साथ जिम्मेदारी आती है, आपका ज्ञान सिर्फ आपका ही नहीं है, बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए विरासत है. नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में लैंगिक समानता समावेश कोष का प्रावधान है जो कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम है. Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

पीएम मोदी ने कहा कि गुरुदेव अगर विश्व भारती को सिर्फ एक यूनिवर्सिटी के रूप में देखना चाहते, तो वो इसे ग्लोबल यूनिवर्सिटी या कोई और नाम दे सकते थे, लेकिन उन्होंने इसे विश्व भारती विश्वविद्यालय नाम दिया. Also Read - JNU कैम्‍पस में छात्रा से छेड़छाड़ का मामला: Delhi पुलिस ने 1000 CCTV कैमरों के फुटेज खंगालकर खोज निकाला आरोपी

गुरुदेव की विश्व भारती से अपेक्षा थी कि यहां जो सिखने आएगा वो पूरी दुनिया को भारत और भारतीयता की दृष्टि से देखेगा. गुरुदेव का ये मॉडल भ्रम, त्याग और आनंद के मूल्यों से प्रेरित था इसलिए उन्होंने विश्व भारती को सिखने का ऐसा स्थान बनाया जो भारत की समृद्ध धरोहर को आत्मसात करे.