WB Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों से पहले ममता बनर्जी ने शुभेंदु अधिकारी को चुनौती देते हुए नंदीग्राम से चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी थी. इसी कड़ी में पंचायत मंत्री और कलकत्ता के पूर्व मेयर सुब्रत मुखर्जी पूर्वी मिदनापुर के नंदीग्राम में 3 दिन बिताएंगे. इसकी शुरुआत 1 फरवरी से होगी. बता दें कि जब से नंद्रीग्राम से चुनाव लड़ने को लेकर ममता बनर्जी ने घोषणा की है, तभी से स्थानीय स्तर पर तृणमूल कांग्रेस के नेता नाखुश से लग रहे हैं. इसी कड़ी में ममता बनर्जी की नंदीग्राम रैली से पहले सुब्रत मुखर्जी नंदीग्राम की 3 दिन की यात्रा पर पहुंचेंगे और स्थिति का जायजा लेंगे.Also Read - Manipur Polls 2022: मणिपुर में विधानसभा चुनाव से पहले TMC का एकमात्र विधायक BJP में शामिल

पिछले महीने भाजपा में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ बोलते हुए 18 जनवरी की एक रैली में ममता बनर्जी ने बड़ा ऐलान किया था. इस दौरान उन्होंने कहा था कि वे शुभेंदु अधिकारी को हराने के लिए वहीं से चुनाव लड़ेंगी, जहां से शुभेंदु अधिकारी चुनाव लड़ने वाले हैं. टीएमसी के सूत्रों की मानें तो उनकी इस आश्चर्यजनक घोषणा ने पार्टी व जिला स्तर के कुछ नेताओं को काफी नाराज कर दिया. Also Read - Goa Election 2022: गोवा में कांग्रेस, NCP और शिवसेना अलग-अलग लड़ेंगी चुनाव, गठबंधन पर नहीं बनी बात

जिला परिषद के उप प्रमुख शेख सूफियान को उम्मीद थी कि वे नंदीग्राम से तृणमूल के अगले उम्मीदरवार होंगे. लेकिन ममता बनर्जी की घोषणा के बाद सूफियान के हाव भाव बदले बदले से दिखे जिससे आशंका लगाई जा सकती है कि यह नाराजगी सीधे तौर पर ममता बनर्जी के साथ है. बता दें कि ममता बनर्जी द्वारा इस घोषणा के बाद से ही सूफियान अधिकत्तर पार्टी बैठकों में शामिल नहीं हो रहे हैं. Also Read - Goa Assembly Election 2022: चिदंबरम बोले - मुख्य मुकाबला भाजपा-कांग्रेस में, AAP-TMC भाजपा विरोधी वोट बांटेंगे

बता दें कि सूफियान मंगलवार के दिन अध्यक्ष सोमेन महापात्रा द्वारा आयोजित एक जिला बैठक में अनुपस्थित थे. पार्टी के लोगों की मानें तो शुभेंदु अधिकारी के टीएमसी को छोड़कर भाजपा में शामिल होने के बाद पार्टी को काफी झटका लगा है.