West Bengal Assembly Elections: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में राजनीति सरगर्मी तेज हो चुकी है. भाजपा छोड़कर टीएमसी में शामिल हुईं सुजाता मंडल ने शुभेंदु अधिकारी को चुनौती दे डाली है. उन्होंने कहा कि शुभेंदु अधिकारी एक बड़े कद के नेता हैं लेकिन मैं बंगाल की 294 में से किसी भी सीट पर से चुनाव लड़ने को तैयार हूं. इस दौरान मुझे विश्वास है कि शुभेंदु अधिकारी की जमानत जब्त हो जाएगी. Also Read - West Bengal: PM मोदी के पहुंचने से पहले बवाल, हावड़ा में BJP कार्यर्ताओं पर हमला, TMC वर्कर्स पर आरोप

सुजाता मंडल ने आगे शुभेंदु अधिकारी को लेकर कहा कि अगर शुभेंदु अधिकारी इस चुनौती को स्वीकार नहीं करते तो मैं समझूंगी कि वे डर गए हैं. बता दें कि सुजाता मंडल भाजपा सांसद सौमित्र खान की पत्न हैं. सौमित्र ने साल 2019 में लोकसभा चुनावों से पहले भाजपा का दामन थामा था और जीत दर्ज की थी. सौमित्र खान की जीत में सबसे बड़ा योगदान उनकी पत्नी का ही है. Also Read - सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती: गृह मंत्री अमित शाह ने नेताजी को दी श्रद्धांजलि, कही ये बात

बता दें कि जब सौमित्र खान पर साल 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान चुनाव प्रचार करने को लेकर रोक लगाई गई थी, तब सौमित्र की पत्नी सुजाता मंडल ने ही घर घर जाकर चुनाव प्रचार किया था. इसी प्रचार के कारण सौमित्र खान को जीत मिली थी. लेकिन सुजाता ने अब तृणमूल कांग्रेस का हाथ पकड़ लिया है. इसपर सुजाता का कहना है कि भाजपा में उचित सम्मान न दिए जाने के कारण उन्होंने टीएमसी में शामिल होने का फैसला किया है. Also Read - WB Assembly Elections: बंगाल में पहले ही कराए जा सकते हैं विधानसभा चुनाव, बोर्ड परीक्षा की है तैयारी

बता दें कि पार्टी बदलने को लेकर सुजाता और सौमित्र खान के रिश्ते के बीच अब दरार आनी शुरू हो गई है. बात इतनी बिगड़ने लगी है कि नौबत तलाक देने तक की आ गई है. बता दें कि सौमित्र खान ने सुजाता मंडल को तलाक का नोटिस तक भेज दिया है. वहीं सुजाता मंडल लगातार भारतीय जनता पार्टी और उनके नेताओं पर निशाना साध रही हैं.