पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा में शामिल हो चुके सुपरस्टार मिथुन चक्रवर्ती ने कहा था ‘मारूंगा यहां और लाश श्मशान में गिरेगी’ के कारण मिथुन चक्रवर्ती अब फंस चुके हैं. इस बयान को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट में उनसे पूछताछ हुई और न्यायमूर्ति तीर्थकर घोष की अदालत में मिथुन चक्रवर्ती ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल होकर अपनी सफाई दी है.Also Read - Anupamaa ने Mithun Chakraborty संग किया था रोमांस, 19 की उम्र में ही...अब उनकी बहु से तकरार

बता दें कि मिथउन चक्रवर्ती के इस डायलॉग पर टीएमसी के युवा नेता की ओर से मानिकतला थाने में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में एफआई दर्ज कराई गई थी. नेता ने दावा किया कि ‘मारबो एखाने लाश पोरबे शोमशाने’ यानी तुम्हे मारूंगा यहां तो लाश शमशान में गिरेगी और एक छोबोले चाबी यानी सांप के एक दंश से तुम तस्वीर में कैद हो जाओगे बयान के बाद ही बंगाल में विधानसभा चुनाव के दौरान हिंसा देखने को मिली. Also Read - 'अनुपमा' उर्फ Rupali Ganguly के पहले हीरो थे मिथुन चक्रवर्ती, 24 साल पहले इस फिल्म में बनी थीं हीरोइन

हाईकोर्ट ने दिया सुनवाई का आदेश Also Read - Mithun Chakraborty के जन्मदिन पर देखें उनकी गोद ली हुई बेटी दिशानी की हॉट तस्वीरें, बॉलीवुड एक्ट्रेसेस को देती हैं मात

बता दें कि इस मामले में पहले सुनवाई के दौरान कलकत्ता हाईकोर्ट ने शुक्रवार के दिन मिथुन चक्रवर्ती को निर्देश दिया ता कि वह राज्य को अपने ई-मेल पता दें. ताकि बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान भड़काऊ बयान देने और हिस्सा भड़काने को लेकर दर्ज कराई गई शिकायत पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पूछताछ में शामिल हो सकें.