West Bengal CM Mamata Banerjee: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में नेताजी की जयंती कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ नारे लगाये गए जिसके बाद बनर्जी ने कार्यक्रम में बोलने से इनकार कर दिया. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि सरकारी कार्यक्रम में किसी को बुलाकर बेइज्जत करना ठीक नहीं.Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

दरअसल पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नेताजी की जयंती पर विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में ‘जय श्रीराम’ के नारों के बीच संबोधन देने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि उनका ‘अपमान’ किया गया है. Also Read - JNU कैम्‍पस में छात्रा से छेड़छाड़ का मामला: Delhi पुलिस ने 1000 CCTV कैमरों के फुटेज खंगालकर खोज निकाला आरोपी

ममता बनर्जी ने कार्यक्रम में उनके खिलाफ नारे लगाये जाने के बाद कहा, “यदि आप किसी को किसी सरकारी कार्यक्रम में आमंत्रित करते हैं, तो आपको उसका अपमान नहीं करना चाहिए.” Also Read - नेताजी की जयंती पर बंगाल में हंगामा, माल्यार्पण को लेकर भिड़े TMC-BJP कार्यकर्ता; धक्का मुक्की के बाद हुई फायरिंग

दरअसल जैसे ही ममता बनर्जी भाषण देने के लिए मंच पर पहुंचीं, जयश्री राम के नारे लगने लगे. इससे नाराज ममता बनर्जी ने मंच पर बोलने से इनकार कर दिया. एक तरफ जयश्री राम तो दूसरी तरफ भारत माता की जय के नारे लग रहे थे.

ममता बनर्जी ने कहा, “मुझे लगता है कि गवर्मेंट के प्रोग्राम की कोई गरिमा होनी चाहिए. यह सरकारी कार्यक्रम है, यह किसी पार्टी का प्रोग्राम नहीं है, यह ऑल पार्टी और पब्लिक का प्रोग्राम है. मैं तो प्रधानमंत्री जी की आभारी हूं, कल्चरल मिनिस्ट्री की आभारी हूं कि आप लोगों ने कोलकाता में प्रोग्राम बनाया. लेकिन किसी को आमंत्रित करके, किसी को निमंत्रित करके उसका अपमान करना आपको शोभा नहीं देता. मैं इस पर विरोध जताते हुए यहां नहीं बोलूंगी. जय हिंद, जय बांग्ला.”

गौरतलब है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती को लेकर यह सरकारी कार्यक्रम आयोजित था. प्रोटोकॉल के मुताबिक इस प्रोग्राम में राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इसमें उपस्थित थे. इस मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उपलब्ध थे.