कोलकाता: पश्चिम बंगाल के 6 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं. इस कारण अबतक 7 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं ढाई लाख से ज्यादा लोग बेघर हो चुके हैं. राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंत्रियों को बचाव अभियान पर निगरानी रखने का निर्देश दिया है. वहीं हुगली जिले में सेना व वायुसेना को राहत बचाव कार्य में लगा दिया है. अधिकारियों की मानें तो करीब ढाई लाख लोग इस कारण बेघर हो चुके हैं व लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा चुका है. बता दें दामोदर घाटी निगम के बांध से पानी छोड़ा गया था और सप्ताह भर बारिश के कारण यह स्थिति पैदा हो गई है.Also Read - Bhabanipur ByPoll: भवानीपुर में BJP उपाध्यक्ष दिलीप घोष के साथ धक्का-मुक्की, चुनाव आयोग ने राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट

पानी में डूबा पूरा शहर Also Read - उपचुनाव जीतना चाहती हैं ममता बनर्जी, बोलीं वोट नहीं देंगे तो सीएम नहीं रह पाऊंगी

पूर्व मेदिनीपुर जिले का घाटाल शहर पानी में डूब चुका है. यहां जल प्लावन में तीन लोगों की मौत हो चुकी है. केसपुर में भी पानी में डूबने से एक की मौत हो गई है. बता दें कि हुगली के आरामबाग में बाढ़ में फंसे लोगों को बाहर निकालने के लिए हेलीकॉप्टर की मदद ली गई है. बता दें कि बाढ़ की चपेट में आरामबाग सबडिवीजन पूरी तरह से बाढ़ की चपेट में आ गया है. हजारों लोग बेघर हो गए हैं. लोगों को नजदीकी राहत बचाव शिविर में पहुंचाया जा रहा है. Also Read - ममता बनर्जी का बड़ा बयान- भवानीपुर उप चुनाव मैं न जीती तो कोई और बनेगा बंगाल का सीएम, इसलिए...

वहीं रूपनारायण नदी पर बने बांध के टूट जाने के कारण हुगली जिले के कई इलाकों में पानी घुस चुका है. सेना को यहां बचाव कार्य के लिए उतार दिया गया है. वहीं डीवीसी से एक लाख तीस हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया था, जिसके बाद हावड़ा जिले का उदयनारायणपुर डूब गया. बता दें कि हुगली जिले का आरामबाग और जंगीपाड़ा भी जलमग्न हो चुका है.