West Bengal News in Hindi: पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है. आज गुरुवार को पश्चिमी मिदनापुर के पंचखुडी में स्थानीय लोगों ने केंद्रीय मंत्री के वाहन हमला कर दिया. ये हमला विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन (Union Minister of State for External Affairs V Muraleedharan) की कार पर किया गया है. इस घटना का एएनआई ने वीडियो भी जारी किया है.Also Read - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलीं पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी, चार दिवसीय दौरे पर आई हैं दिल्ली

वीडियो में नजर आ रहा है कि स्थानीय लोगों ने केंद्रीय मंत्री की कार को घेर लिया और लाठी-डंडों व पत्थरों से हमला कर दिया. इस हमले में उनकी गाड़ी के शीशे भी टूट गए हैं. वीडियो में एक बड़ी लकड़ी को गाड़ी में देखा जा सकता है. घटना के बाद वीडियो सोशल मीडिया में भी खूब वायरल हो रहा है Also Read - पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में 10 कांवड़ियों की मौत, 16 घायल, पिकअप में करंट फैलने से हुआ हादसा | Watch Video

इधर केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट कर इस हमले का आरोप टीएमसी पर लगाया है. ट्वीट में उन्होंने कहा- टीएमसी के गुंडों ने पश्चिमी मिदनापुर में मेरे काफिले पर हमला. शीशें तोड़ दिए गए. निजी स्टाफ पर हमला किया गया. मुझे अपना दौरा बीच में ही छोड़कर वापस आना पड़ रहा है. पश्चिमी मिदनापुर के एसपी दिनेश कुमार ने बताया कि घटना के संबंध में आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा तीन पुलिस अधिकारियों को निलंबित किया गया है. Also Read - WB SSC Scam: अर्पिता के घर में फिर मिले 30 करोड़ कैश, ट्रंक में भर-भर कर ले गई ईडी की टीम, कहां से आए इतने रुपये?

केंद्रीय प्रकाश जावेड़कर ने इस हमले की निंदा की है. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में आज जिस तरह केंद्रीय मंत्री पर हमला हुआ है, वहां की सरकार ने लोकतंत्र को शर्मसार कर दिया है. ये सरकार प्रायोजित हिंसा है. हम इसकी निंदा करते हैं. मंत्री सुरक्षित नहीं है तो फिर सामान्य जनता का क्या होगा. इधर सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल से राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति पर रिपोर्ट भेजने को कहा है.

दूसरी तरफ बंगाल में हिंसा की खबरों पर टीएमसी ने सफाई दी है. पार्टी नेता मदन मित्रा ने कहा कि बंगाल में हिंसा है इससे हम इनकार करते हैं. एक दो छोटे मोटे झगड़े हो सकते हैं. BJP जीतती तो अभी तक बंगाल में दंगा हो जाता. गृह मंत्रालय की टीम जाकर अगर ऐसा करे जिससे हिंसा बढ़े तो यह ठीक नहीं है. जो 200 पार बोला था ना उसे शर्म आनी चाहिए और माफी मांगनी चाहिए.