West Bengal News: तृणमूल कांग्रेस की सांसद और अभिनेत्री नुसरत जहां (TMC MP Nusrat Jahan) ने दावा किया है कि निखिल जैन से उनकी शादी भारत में वैध नहीं है. उन्होंने कहा कि उनके बीच महज एक लिव-इन रिलेशनशिप थी और उनका अलगाव बहुत पहले हो गया था. नुसरत ने कथित तौर पर 2019 में तुर्की में व्यवसायी निखिल जैन से शादी की थी. नुसरत ने कहा कि दोनों की शादी तुर्की के कानून के हिसाब से हुई थी, ऐसे में यह भारत में वैध नहीं है.Also Read - Cattle Smuggling Case: पार्थ चटर्जी के बाद Anubrata Mondal ने दी ‘ममता दीदी’ को टेंशन, CBI ने घर से धर दबोचा | Watch Video

भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य (BJP MP Sanghmitra maurya) ने उनके इस दावे पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि टीएमसी से लोकसभा सांसद नुसरत जहां ने लोकसभा में दिए शपथ पत्र में बताया कि वो विवाहित हैं और उनके पति का नाम निखिल जैन (Nikhil Jain) है. उन्होंने नुसरत जहां रूही जैन नाम के उच्चारण के साथ संसद सदस्य की शपथ भी ली थी. अब वो कह रही हैं कि उनकी शादी अमान्य है. मैंने इसके खिलाफ लोकसभा अध्यक्ष से कार्रवाई की अपील की है. मौर्य टीएमसी सांसद की सदस्यता रद्द करने के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker OM Birla) को पत्र भी लिखा है. Also Read - Bengal Cabinet Reshuffle: बंगाल में ममता मंत्रिमंडल का विस्तार, बाबुल सुप्रियो समेत कुल 9 मंत्रियों ने ली शपथ; देखें पूरी LIST

बदायूं से भाजपा सांसद ने लोकसभा अध्यक्ष को भेजे पत्र में नुसरत जहां पर अमर्यादित आचरण करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि नुसरत जहां ने लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ के दौरान अपने नाम का उच्चारण नुसरत जहां रूही जैन के रूप में किया था. लोकसभा की वेबसाइट पर नुसरत जहां के पति का नाम निखिल जैन लिखा है. Also Read - पश्चिम बंगाल में शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने पार्थ चटर्जी की तुलना नेल्सन मंडेला से की, सोशल मीडिया पर बढ़ा बवाल

इधर टीएमसी नुसरत जहां के समर्थन में उतर आई है. पश्चिम बंगाल में पार्टी महासचिव कुणाल घोष (TMC General Secretary Kunal Ghosh) ने भाजपा पर पूरे मामले का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि ये उनका निजी पारिवारिक मामला है. अगर हम दूसरों के निजी जीवन में दखल देंगे तो ये कई पार्टियों के लोगों के लिए परेशान करने वाला हो सकता है.

मालूम हो कि बंगाल में बशीरहाट से तृणमूल सांसद ने एक विस्तृत बयान में कहा था कि विदेशी भूमि पर शादी होने के कारण और तुर्की मैरेज रेग्युलेशन के मुताबिक, शादी अमान्य है. यह दो अलग धर्म के लोगों के बीच हुई शादी है, इसलिए इसे भारत में वैधानिक मान्यता देने की जरूरत थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इस प्रकार, तलाक का सवाल ही नहीं उठता.

उन्होंने आगे कहा था कि दोनों बहुत पहले ही अलग हो गए थे, लेकिन मैंने इस पर बात नहीं की, क्योंकि मैं अपने निजी जीवन को अपने तक ही सीमित रखना चाहती थी. मीडिया या किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा अलगाव के आधार पर मेरे कार्यों पर सवाल नहीं उठाया जाना चाहिए, जिससे मैं संबंधित नहीं हूं. कथित विवाह कानूनी, वैध और मान्य नहीं है और इस प्रकार कानून की नजर में तो यह शादी बिल्कुल भी नहीं है. (एजेंसी इनपुट)